ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशअकबर नामक शेर के साथ सीता नाम की शेरनी को बाड़े में कर दिया बंद, कोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

अकबर नामक शेर के साथ सीता नाम की शेरनी को बाड़े में कर दिया बंद, कोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

शेर और शेरनी के इस जोड़े को पिछले दिनों ही त्रिपुरा के सेपाहिजला जूलॉजिकल पार्क से लाया गया था, जिसके बाद इन्हें सिलीगुड़ी के एक सफारी में मौजूद बाड़े में बंद कर दिया गया।

अकबर नामक शेर के साथ सीता नाम की शेरनी को बाड़े में कर दिया बंद, कोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 05:21 PM
ऐप पर पढ़ें

पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में स्थित एक सफारी के बाड़े में अकबर नाम के शेर को सीता नामक शेरनी के साथ रखे जाने पर विवाद खड़ा हो गया है। वन विभाग के इस कदम के खिलाफ विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की बंगाल यूनिट ने जलपाईगुड़ी में कलकत्ता हाई कोर्ट की सर्किट बेंच का दरवाजा खटखटाया है। याचिका का जिक्र 16 फरवरी को न्यायमूर्ति सौगत भट्टाचार्य की पीठ के समक्ष किया गया था और इसे 20 फरवरी को सुनवाई के लिए लिस्ट भी कर लिया गया है।

लाइव लॉ के अनुसार, शेर और शेरनी के इस जोड़े को पिछले दिनों ही त्रिपुरा के सेपाहिजला जूलॉजिकल पार्क से लाया गया था, जिसके बाद इन्हें सिलीगुड़ी के एक सफारी में मौजूद बाड़े में बंद कर दिया गया। वन विभाग का कहना है कि उन्होंने शेर और शेरनी के नाम को नहीं बदला है। दोनों का नाम 13 फरवरी को ही रखा जा चुका था, जबकि वे सफारी में बाद में लाए गए हैं। वीएचपी सीता नामक शेरनी और अकबर नामक शेर को एक ही बाड़े में बंद किए जाने के खिलाफ कोर्ट पहुंची है।

वीएचपी ने दावा किया है कि शेर और शेरनी के नाम को राज्य वन विभाग ने रखा है और इसीलिए 'अकबर' व 'सीता' को साथ रखना हिंदू हिंदू धर्म का अपमान होगा। वीएचपी ने कोर्ट में याचिका लगाकर दोनों के नामों में बदलाव करने के लिए कहा है। राज्य के वन अधिकारियों और बंगाल के सफारी पार्क निदेशक को मामले में पक्षकार बनाया गया है। याचिका पर अब मंगलवार 20 फरवरी को सुनवाई होगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें