ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशभारत हिन्दू राष्ट्र बना तो समझो पाकिस्तान-अफगानिस्तान; 'गोधरा कांड' के बाद अब सिद्धारमैया के बेटे के बिगड़े बोल

भारत हिन्दू राष्ट्र बना तो समझो पाकिस्तान-अफगानिस्तान; 'गोधरा कांड' के बाद अब सिद्धारमैया के बेटे के बिगड़े बोल

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे यतींद्र सिद्धारमैया ने विवादित बयान देकर नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा अगर भारत हिन्दू राष्ट्र बना तो अफगानिस्तान और पाकिस्तान जैसा हाल होगा।

भारत हिन्दू राष्ट्र बना तो समझो पाकिस्तान-अफगानिस्तान; 'गोधरा कांड' के बाद अब सिद्धारमैया के बेटे के बिगड़े बोल
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,बेंगलुरुWed, 03 Jan 2024 08:54 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले कांग्रेस नेता बीके हरिप्रसाद ने गोधरा कांड जैसी घटना की आशंका वाला बयान देकर पहले ही विवाद को जन्म दे दिया है। अब कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे यतींद्र सिद्धारमैया ने विवादित बयान देकर नया बखेड़ा खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा है कि अगर भारत हिन्दू राष्ट्र बना तो इसका अफगानिस्तान और पाकिस्तान जैसा हाल हो जाएगा।

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले कांग्रेस नेता अपनी बयानबाजी से पार्टी की मुश्किलें लगातार खड़ी कर रहे हैं। पहले अयोध्या राम मंदिर उद्घाटन से पहले कर्नाटक के एमएलसी बीके हरिप्रसाद ने यह बयान देकर नया विवाद खड़ा कर दिया कि राम लला प्राण प्रतिष्ठा से पहले गोधरा कांड जैसी घटना हो सकती है अयोध्या। 

अब मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे यतींद्र ने यह कहकर नया विवाद खड़ा कर दिया कि अगर भारत "हिंदू राष्ट्र" बन गया, तो यह तानाशाही द्वारा शासित अफगानिस्तान और पाकिस्तान जैसा बन जाएगा। उन्होंने कहा कि धर्म के नाम पर तानाशाही के कारण जैसे वे दोनों देश दिवालिया हो गए हैं, भारत का भी यही हाल हो सकता है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने उनके हवाले से कहा, “धर्म के नाम पर तानाशाही ने पाकिस्तान और अफगानिस्तान को दिवालिया बना दिया है…भाजपा के सहयोगी संगठन भारत को एक हिंदू देश बनाने जा रहे हैं। अगर इसकी इजाजत दे दी गई तो हमारा देश भी पाकिस्तान और अफगानिस्तान बन जाएगा...।'' 

कांग्रेस नेता ने भारत को 'हिंदू राष्ट्र' बनाने के प्रयास के लिए आरएसएस और भाजपा को दोषी ठहराया और लोगों से धर्म को राजनीतिक मुद्दा बनाने वाली पार्टियों से सावधान रहने को कहा। उन्होंने कहा, “…अगर देश धर्मनिरपेक्षता को छोड़कर धर्म के पीछे चला जाएगा, तो इसका विकास नहीं होगा। आज, धर्मनिरपेक्ष दर्शन को खतरा है...हमें धर्म का राजनीतिकरण करने वाली पार्टियों से सावधान रहना चाहिए...।'' 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें