ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशबीमार पिता, सिर पर कर्ज और एक बहन; क्या-क्या छोड़ गया खनौरी बॉर्डर पर मरा किसान युवक

बीमार पिता, सिर पर कर्ज और एक बहन; क्या-क्या छोड़ गया खनौरी बॉर्डर पर मरा किसान युवक

अब तक यह जानकारी नहीं मिल सकी है कि किसान आंदोलन में शामिल रहे शुभकरण सिंह की मौत किस वजह से हुई है। उनके शव का पोस्टमार्टम भी नहीं हो सका है क्योंकि किसान मुआवजे की मांग पर अड़े हुए हैं।

बीमार पिता, सिर पर कर्ज और एक बहन; क्या-क्या छोड़ गया खनौरी बॉर्डर पर मरा किसान युवक
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 04:19 PM
ऐप पर पढ़ें

किसान आंदोलन के दौरान मौत का शिकार हुए 21 साल के शुभकरण सिंह गरीब परिवार से थे। वह 8 दिन पहले ही पंजाब के बठिंडा जिले के बालोके गांव से दिल्ली चलो मार्च में शामिल होने निकले थे। बुधवार को हरियाणा में एंट्री वाले खनौरी बॉर्डर पर किसानों और पुलिस के बीच ऐक्शन में उनकी मौत हो गई। अब तक यह जानकारी नहीं मिल सकी है कि शुभकरण सिंह की मौत किस वजह से हुई है। उनके शव का पोस्टमार्टम भी नहीं हो सका है क्योंकि किसान पहले उनके परिवार को मुआवजा और सरकारी नौकरी दिए जाने की मांग सरकार से कर रहे हैं।

इस बीच जानकारी मिली है कि शुभकरण सिंह एक गरीब किसान परिवार से थे। शुभकरण सिंह अपने पीछे मानसिक बीमार पिता और पढ़ाई कर रही बहन को छोड़ गए हैं। उनकी बड़ी बहन की शादी हो गई और उसके ब्याह के लिए ही परिवार ने कर्ज लिया था, जिसकी बड़ी रकम अब भी बकाया ही है। शुभकरण सिंह का मां का पहले ही निधन हो चुका है। शुभकरण सिंह के गांव के लोगों का कहना है कि परिवार गरीब है। अब किसान आंदोलन का भले ही कुछ भी अंजाम हो, लेकिन शुभकरण सिंह के परिवार ने अपने एकमात्र सहारे को खो दिया है।

किसान आंदोलनकारियों का दावा है कि शुभकरण सिंह की मौत हरियाणा पुलिस की ओर से दागे आंसू गैस के गोले से हुई है। उनका कहना है कि आंसू गैस का गोला शुभकरण सिंह के सिर पर गिरा था और उससे मौत हो गई। हालांकि मौत का असली कारण तो पोस्टमार्टम के बाद ही पता चल सकेगा। गौरतलब है कि दिल्ली चलो मार्च का ऐलान करने वाले किसान आंदोलनकारियों को फिलहाल हरियाणा पुलिस ने शंभू बॉर्डर और खनौरी सीमा पर ही रोक रखा है। किसानों ने शुक्रवार तक के लिए आंदोलन को रोक दिया है। 

पटियाला स्थित जिस राजिंदर हॉस्पिटल में शुभकरण सिंह को ले जाया गया था, वहां के मेडिकल सुपरिंटेंडेट एचएस रेखी का कहना है कि शुभकरण सिंह की मौत सिर पर चोट से हुई है। हालांकि असल वजह तो पोस्टमार्टम से ही पता चलेगी। रेखी ने कहा, 'शुभकरण सिंह को जब यहां लाया गया तो उनकी मौत हो चुकी थी। शुरुआती जांच से ऐसा लगता है कि उन्हें गोली लगी थी। पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा कि उन्हें आखिर कौन सी गोली लगी थी।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें