ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसंजय राउत ने राज ठाकरे को बताया बीजेपी का लाउड स्पीकर, कहा- सरकार को अल्टीमेटम सिर्फ बाला साहेब दे सकते थे

संजय राउत ने राज ठाकरे को बताया बीजेपी का लाउड स्पीकर, कहा- सरकार को अल्टीमेटम सिर्फ बाला साहेब दे सकते थे

महाराष्ट्र में शिवसेना सांसद संजय राउत ने एमएनएस चीफ राज ठाकरे को बीजेपी का लाउड स्पीकर करार देते हुए कहा है कि सरकार को अल्टीमेटम देने की हिम्मत और ताकत सिर्फ दिवंगत बाला साहेब ठाकरे में थी।

संजय राउत ने राज ठाकरे को बताया बीजेपी का लाउड स्पीकर, कहा- सरकार को अल्टीमेटम सिर्फ बाला साहेब दे सकते थे
Atul Guptaलाइव हिंदुस्तान,मुंबईThu, 14 Apr 2022 07:21 PM
ऐप पर पढ़ें

शिवसेना सांसद संजय राउत ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) चीफ राज ठाकरे को बीजेपी का लाउड स्पीकर करार दिया है। संजय राउत ने कहा कि शिवसेना को हिंदुत्व का पाठ एमएनएस से सीखने की जरूरत नहीं है। शिवसेना सांसद राउत ने कहा कि हिंदुत्व शिवसेना की रगों में दौड़ता है। राज ठाकरे को लेकर राउत ने कहा कि राज ठाकरे की हिम्मत नहीं है कि वो उद्धव ठाकरे से सीधी लड़ाई लड़ सकें इसलिए बीजेपी की आड़ में पीछे से हमला कर रहे हैं। लाउड स्पीकर को लेकर एमएनएस के अल्टीमेटम के जवाब में संजय राउत ने कहा कि दिवंगत बाला साहेब ठाकरे में ही इतनी क्षमता और शक्ति थी कि वो सरकार को अल्टीमेटम दे सकें। 

गौरतलब है कि एनएनएस चीफ राज ठाकरे ने पिछले दिनों कहा था कि वो मस्जिदों से लाउड स्पीकर हटाने के लिए वो सरकार को 3 मई तक का अल्टीमेटम दे रहे हैं। 3 मई के बाद भी अगर मस्जिद से लाउड स्पीकर चलते हैं तो वो उनके सामने अपने लाउड स्पीकर लगाकर उसी वक्त हनुमान चालीसा और भजन चलाना शुरू कर देंगे। गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में मस्जिदों से लाउड स्पीकर हटाने की मांग उठ रही है। महाराष्ट्र और तमिलनाडु से तो मांग उठ ही रही थी, बुधवार को असम से भी ये मांग उठी है कि मस्जिद से लाउड स्पीकर हटाए जाएं।

हालिया मांग असम से उठी है। असम के राउइ विंग ग्रुप कुटुंब सुरक्षा मिशन ने कहा है कि लाउड स्पीकर कभी भी इस्लाम का हिस्सा नहीं था इसलिए मस्जिदों से लाउड स्पीकर हटाए जाने चाहिए। संगठन ने असम सरकार से कहा कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो वो सड़क जान करना शुरू कर देंगे। कर्नाटक में भी लाउड स्पीकर हटाने की मांग जोर पकड़ती जा रही है। हालांकि कर्नाटक हाई कोर्ट ने कहा है कि सभी धार्मिक जगहों से लाउड स्पीकर हटाए जाने चाहिए।

epaper