Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ कितनी कारगर है COVISHILED... अदार पूनावाला ने बताया

ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ कितनी कारगर है COVISHILED... अदार पूनावाला ने बताया

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीGaurav Kala
Tue, 30 Nov 2021 09:28 PM
ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ कितनी कारगर है COVISHILED... अदार पूनावाला ने बताया

इस खबर को सुनें

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला का कहना है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट के खिलाफ कोविशील्ड वैक्‍सीन कितनी कारगर है, इसका पता अगले कुछ हफ्तों में चल जाएगा। पूनावाला ने कहा कि अभी यह नहीं कह सकते कि ओमिक्रॉन कितना ज्यादा संक्रामक है ? ओमिक्रॉन को ध्यान में रखते हुए बूस्टर डोज जल्द ही संभव है। हालांकि उनका कहना है कि सरकार का फोकस फिलहाल सौ फीसदी कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज दिए जाने पर केंद्रित होना चाहिए।

लैंसेट की स्टडी में पाया गया है कि कोविशील्ड डेल्टा वैरिएंट के कहर के दौरान भी वायरस से निपटने में काफी प्रभावी रही और इससे अस्पताल में भर्ती होने और मौत होने की आशंका काफी हद तक कम हो गई थी। एनडीटीवी से बातचीत में पूनावाला ने कहा कि कोविशील्ड के ओमिक्रॉन पर असर को लेकर ऑक्सफोर्ड के वैज्ञानिक अध्ययन कर रहे हैं और हमें बस कुछ हफ्तों का इंतजार है। ओमिक्रॉन को लेकर जानकारी सामने आने के बाद उसी के आधार पर हम नई वैक्सीन लेकर आ सकते हैं। उन्होंने कहा कि आगामी 6 महीने में बूस्टर डोज की तरह पेश की जा सकती है।

अदार पूनावाला ने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि समय के साथ कोविशील्ड की प्रभावक्षमता कम होती जाए। हालांकि उन्होंने दोहराया कि उनका संदेश यही है कि सभी लोगों को कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लेनी चाहिए। इसके बाद ही अगले साल हम इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए बूस्टर डोज देने की सोच सकते हैं। 

सरकार की घोषणा का इंतजार
पूनावाला के मुताबिक, हमारे पास कैंपस में लाखों वैक्सीन डोज का स्टॉक है। हमने 20 करोड़ वैक्सीन डोज राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए सुरक्षित रखी है। ऐसे में अगर सरकार बूस्टर डोज का ऐलान करती है तो हम उन्हें पर्याप्त आपूर्ति देने में सक्षम हैं। हमारे पास कोवावैक्स का भी पर्याप्त स्टॉक है, जो कोविड-19 के खिलाफ नई स्वदेशी वैक्सीन है। इसे अगले कुछ हफ्ते में इस्तेमाल की मंजूरी मिल सकती है। 

एक अरब तक डोज देने में सक्षम
सीरम के सीईओ ने कहा कि भारत दुनिया के दवाखाने यानी फार्मेसी ऑफ द वर्ल्ड की भूमिका निभाने को तैयार है। हमारा दुनिया को संदेश है कि हम भारत ही नहीं, हमारे पास विश्व की जरूरत के हिसाब से पर्याप्त वैक्सीन डोज उपलब्ध हैं। पूनावाला ने कहा कि अभी हम हर माह 25 करोड़ वैक्सीन डोज का उत्पादन कर रहे हैं और हम छह माह में 1 अरब वैक्सीन डोज देने का लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं। 

epaper

संबंधित खबरें