DA Image
3 जून, 2020|4:01|IST

अगली स्टोरी

पुलवामा हमले पर बोले अलगाववादी, कश्मीर मुद्दे के समाधान में देरी से घाटी में हो रही है तबाही

The biggest attack in Kashmir till now

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 44 जवानों की शहादत के एक दिन बाद अलगाववादियों ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें कश्मीर की जमीन पर होने वाली ''हर मौत पर अफसोस है। अलगाववादी नेताओं-- सैयद अली शाह गिलानी, मीरवायज उमर फारूक और यासिन मलिक ने एक बयान में यह बात कही। हालांकि इस बयान में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के इस आत्मघाती हमले का उल्लेख नहीं है।

Pulwama Terror Attack: पुलवामा आतंकी हमले के बाद CRPF का ट्वीट, 'न भूलेंगे, न माफ करेंगे'

इन नेताओं ने बयान में कहा, ''कश्मीर के लोग और नेतृत्व को हर उस हत्या पर अफसोस है जो इस जमीन पर होती है। उन्होंने कहा, ''कश्मीर विवाद के समाधान में देरी से....खासकर कश्मीर में भयंकर तबाही हो रही है। उन्होंने कहा, ''यदि हत्या और प्रति हत्या रोकनी है, यदि हम वाकई इस क्षेत्र में शांति चाहते हैं, तो हमें वैमनस्य पर पूर्णविराम लगाना होगा, एक दूसरे से बातचीत करनी होगी और सभी तीनों पक्षों की चिंताएं सुननी होगी तथा मानवता एवं न्याय की भावना से उनका समाधान करना होगा। कश्मीर विवाद का हमेशा हमेशा के लिए समाधान करिए।

पुलवामा हमले के बाद पाक को पीएम मोदी की चेतावनी, 'आपने बहुत बड़ी गलती की'

गौरतलब है कि बीते गुरुवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए सबसे बड़े आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए। हमले के वक्त 2547 जवान 78 वाहनों के काफिले में जा रहे थे। इसी दौरान जैश-ए मोहम्मद के आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदी कार से उनकी बस में टक्कर मार दी। धमाका इतना जबरस्त था कि बस के परखच्चे उड़ गए। करीब 10 किलोमीटर तक धमाके की आवाज सुनाई दी थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Separatist Leaders Blame Kashmir Dispute For Pulwama Terror Attack