ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशवरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल को मिली बड़ी सफलता, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के बने अध्यक्ष

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल को मिली बड़ी सफलता, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के बने अध्यक्ष

इससे पहले भी साल 2001-02 के बीच कपिल सिब्बल सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रह चुके हैं। वहीं, 1995-1996 और 1997-1998 तक भी वे एससीबीए के प्रेसिडेंट रहे।

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल को मिली बड़ी सफलता, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के बने अध्यक्ष
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 16 May 2024 11:07 PM
ऐप पर पढ़ें

वरिष्ठ वकील और राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल को गुरुवार को बड़ी सफलता मिली है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) का चुनाव जीत लिया है। सिब्बल को कुल 1066 वोट मिले, जबकि उनके बाद दूसरे नंबर पर वरिष्ठ वकील प्रदीप राय रहे, जिन्हें 689 वोट मिले। इससे पहले भी साल 2001-02 के बीच कपिल सिब्बल सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रह चुके हैं। वहीं, 1995-1996 और 1997-1998 तक भी वे एससीबीए के प्रेसिडेंट रहे।

निवर्तमान अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ आदिश अग्रवाल को 296 वोट मिले हैं और वे तीसरे स्थान पर रहे। सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष के लिए चुनाव लड़ने वालों में प्रिया हिंगोरानी, त्रिपुरारी रे, नीरज श्रीवास्तव भी थे। यह चौथी बार होगा जब कपिल सिब्बल एससीबीए के अध्यक्ष के रूप में काम करेंगे।

इससे पहले बार एंड बेंच को दिए एक इंटरव्यू में जब कपिल सिब्बल से पूछा गया था कि इस साल SCBA का चुनाव लड़ने का उन्होंने क्यों फैसला किया तो इस पर जवाब दिया कि यह तीन साल से चल रहा था। बार के सदस्य वरिष्ठ और कनिष्ठ मुझे मनाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन मैं इसका विरोध करता था, क्योंकि यह बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी।

उन्होंने इंटरव्यू में कहा, ''कानूनी समुदाय परिवर्तन और राष्ट्रीय आंदोलन में भी सबसे आगे रहता था। हमने इस देश की मुख्यधारा में बने रहने की इच्छा खो दी है, वह बदल गया है। मैं समझता हूं कि अब बार एसोसिएशन के सामने बड़ी चुनौतियां हैं। बार में नए प्रवेशकर्ता, बार एसोसिएशन और रजिस्ट्री के बीच संबंध, जिस तरह रात में मामलों को सूचीबद्ध किया जा रहा है, जिस तरह से प्रत्येक अदालत अपनी सूची का प्रबंधन करती है और प्रत्येक मामले की सुनवाई कैसे की जाती है - इसके बारे में सुबह तक कोई नहीं जानता। बार के सदस्यों के संबंध में, सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट्स-ऑन-रिकॉर्ड एसोसिएशन (एससीएओआरए) और एससीबीए जैसे संस्थानों के बीच समन्वय की आवश्यकता, देश में बार एसोसिएशनों की कनेक्टिविटी आदि के संबंध में चुनौतियां हैं। 

वहीं, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल के उच्चतम न्यायालय बार एसोसिएशन का अध्यक्ष चुने जाने को उदारवादी और लोकतांत्रिक ताकतों की जीत करार देते हुए कहा कि यह देश में बहुत जल्द होने जा रहे बड़े परिवर्तन का ट्रेलर है। वरिष्ठ अधिवक्ता सिब्बल ने बार एसोसिएशन के अध्यक्ष पद के चुनाव में अपने निकटतम प्रतिद्वंदी प्रदीप राय को पराजित किया। उनकी जीत के बाद रमेश ने 'एक्स' पर पोस्ट किया, ''कपिल सिब्बल को भारी बहुमत से उच्चतम न्यायालय बार एसोसिएशन का अध्यक्ष चुना गया है। यह उदारवादी, धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक और प्रगतिशील ताकतों के लिए एक बड़ी जीत है।'' उन्होंने कहा, ''निवर्तमान प्रधानमंत्री के शब्दों में कहें तो, यह राष्ट्रीय स्तर पर बहुत जल्द होने वाले परिवर्तन का एक ट्रेलर भी है। जल्द ही भूतपूर्व होने जा रहे वर्तमान शासन के कानूनी 'ड्रमबिटर' और 'चीयरलीडर्स' को इससे झटका लगना चाहिए।'' 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें