DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत में पारंपरिक विवाह का चलन घटा: रिपोर्ट में खुलासा

marriage with minor

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में पारंपरिक विवाह (अरेंज मैरिज) का चलन घट रहा है। इसकी जगह अब लड़का-लड़की की पहल पर परिवार की रजामंदी से होने वाले विवाह (सेमी अरेंज मैरिज) लेते जा रहे हैं, जिससे वैवाहिक हिंसा में कमी आ रही है।

संयुक्त राष्ट्र की महिलाओं को लेकर नई रिपोर्ट ‘प्रोग्रेस ऑफ द वर्ल्ड वीमन 2019-2020: फेमलीज इन अ चेंजिंग वर्ल्ड’ मंगलवार को जारी हुई। रिपोर्ट के मुताबिक, कई देशों में अपना साझेदार चुनना व्यक्तिगत फैसला नहीं होता बल्कि यह विस्तृत परिवार अथवा सामाजिक नेटवर्क द्वारा लिया जाता है। इसमें कहा गया कि भारत में अरेंज मैरिज अब भी समान्य बना हुआ है। माता-पिता द्वारा तय पारंपरिक विवाह में महिलाओं को अपना जीवनसाथी चुनने की भूमिका बेहद सीमित होती है और हो सकता है कि वे अपने होने वाले पति से शादी के दिन ही पहली बार मिली हों।

समय के साथ परिवर्तन आया :-
रिपोर्ट में कहा गया कि समय बीतने के साथ ही इस प्रथा की जगह ‘सेमी अरेंज मैरिज’ और प्रेम विवाह ले रहे हैं। इन शादियों में परिवार संभावित साझेदार के बारे में सुझाव देता है, लेकिन महिलाएं चुनती हैं कि शादी करनी है या नहीं या किसे साझेदार बनाना है। इन शादियों में महिलाओं के पास खर्चे करने, बाहर आने-जाने, कितने और कब बच्चे पैदा करने और गर्भनिरोधकों जैसे अहम फैसलों को लेकर अपनी बात रखने का तीन गुना ज्यादा मौका होता है।

संयुक्त राष्ट्र में महिला की कार्यकारी निदेशक फूमजिले म्लाम्बो नगूका ने कहा कि यह रिपोर्ट दिखाती है कि दुनिया भर में हम इस बात की कोशिश के गवाह बन रहे हैं कि महिला के फैसला लेने के अधिकार को अब पारिवारिक मूल्यों के संरक्षण के नाम पर खारिज नहीं किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Semi arranged marriages partially replacing arranged marriages in India says UN report