DA Image
Thursday, December 9, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देश11 करोड़ लोगों ने समय बीतने पर भी कोविड टीके की दूसरी खुराक नहीं लगवाई, डबल चोट है जरूरी

11 करोड़ लोगों ने समय बीतने पर भी कोविड टीके की दूसरी खुराक नहीं लगवाई, डबल चोट है जरूरी

भाषा,नई दिल्लीSudhir Jha
Thu, 28 Oct 2021 12:06 AM
11 करोड़ लोगों ने समय बीतने पर भी कोविड टीके की दूसरी खुराक नहीं लगवाई, डबल चोट है जरूरी

कोविड-19 टीके की पहली खुराक ले चुके 11 करोड़ से अधिक लोगों ने दो खुराकों के बीच निर्धारित अंतराल समाप्त होने के बाद भी दूसरी खुराक नहीं लगवाई है। सरकार के आंकड़ों में यह बात सामने आई। आंकड़े बताते हैं कि 6 सप्ताह से अधिक समय से 3.92 करोड़ से अधिक लाभार्थियों ने दूसरी खुराक नहीं ली है। इसी तरह करीब 1.57 करोड़ लोगों ने चार से 6 सप्ताह देरी से और 1.5 करोड़ से अधिक ने 2 से 4 सप्ताह देरी से कोविशील्ड या कोवैक्सिन की अपनी दूसरी खुराक नहीं ली है।

इसी तरह 3.38 करोड़ से अधिक लोग हैं जो दूसरी खुराक लेने में दो सप्ताह की देरी कर चुके हैं। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया की अध्यक्षता में सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों और प्रतिनिधियों के साथ बैठक में बुधवार को इस विषय पर विचार-विमर्श किया गया। राज्यों से निर्धारित समय गुजरने के बाद भी दूसरी खुराक नहीं लगवाने वाले लोगों पर ध्यान केंद्रित करने को कहा गया।

कोविशील्ड की पहली और दूसरी खुराक के बीच 12 सप्ताह का, वहीं कोवैक्सिन की दो खुराकों के बीच चार सप्ताह का अंतराल रखा जाता है।  सूत्रों के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखकर उनसे उन लाभार्थियों को दूसरी खुराक लगवाने को प्राथमिकता देने को कहा है जिन्होंने निर्धारित अंतराल समाप्त होने के बाद भी दूसरी खुराक नहीं ली है।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने देर शाम बताया कि देश में कोविड टीकाकरण अभियान के तहत आज शाम सात बजे तक एक अरब तीन करोड 99 लाख 28 हजार 634 कोविड टीके लगाS जा चुके है। आज 44 लाख 21 हजार चार कोविड टीके दिए गये। आंकड़ों के अनुसार 72 करोड 32 लाख 25 हजार 620 लोगों को कोविड टीके की पहली खुराक दी गयी है जबकि 31 करोड़ 67 लाख तीन हजार 17 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें