DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सालाना 10% फीस बढ़ा सकेंगे स्कूल, केंद्र सरकार तय कर सकती है सीमा

इसमें सीमा का उल्लंघन करने की स्थिति में जुर्माना लगाने के प्रावधान भी हो सकते हैं। (Photo-HT)

केंद्र स्कूल फीस बढ़ोतरी पर अधिकतम 10 फीसदी की सालाना सीमा तय कर सकती है। एक सरकारी आयोग के निजी और सहायता रहित स्कूलों की फीस वृद्धि पर 10 फीसदी का सालाना सीमा का सुझाव देने की संभावना है। इसमें सीमा का उल्लंघन करने की स्थिति में जुर्माना लगाने के प्रावधान भी हो सकते हैं। 

मुद्दे से परिचित दो अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) एक सिफारिश तैयार कर रहा है, जिसे मानव संसाधन विकास मंत्रालय को सौंपा जाएगा। स्कूल फीस तय करना राज्य सरकारों के अधिकार में है, लेकिन सहायता रहित स्कूलों के लिए मानक फीस नीति नहीं होने से केंद्रीय नियमन के लिए मांग उठती रही है।

यूपी : सरकारी स्कूलों में 300 रुपये में बनेगी बच्चों की यूनिफार्म 

देश के अनेक शहरों में निजी और सहायता रहित स्कूलों में मनमाने ढंग से फीस बढ़ोतरी को लेकर छात्रों के अभिभावकों को विरोध प्रदर्शन करते देखा गया है। दिल्ली और मुंबई के निजी स्कूलों में बीते साल 10 से 40 फीसदी तक की फीस बढ़ोतरी की गई। गौरतलब है कि ऐसे स्कूलों को सरकार से कोई अनुदान नहीं मिलता। उन्हें अपने लिए राजस्व खुद अर्जित करना पड़ता है।  छात्रों के माता-पिता की शिकायतों को देखते हुए देश के शीर्ष बाल अधिकार निकाय एनसीपीसीआर ने सहायता रहित निजी स्कूलों का एक समान फीस ढांचा तैयार करने से संबंधित नियम तैयार किए हैं। यह स्कूलों में फीस वृद्धि की निगरानी के लिए राज्यों में जिला शुल्क नियामक प्राधिकरण की स्थापना का प्रस्ताव देगा।

निजी स्कूलों का हाल-
- 3.50 लाख निजी और सहायता रहित स्कूल हैं देश में
- 24 फीसदी है यह देश के तमाम स्कूलों की संख्या का
- 7.5 करोड़ के लगभग बच्चे पढ़ते हैं इन स्कूलों में 
- 38 फीसदी ठहरती है यह तादाद कुल स्कूली बच्चों की 

575 प्राइवेट स्कूल सात दिन में वापस करें बढ़ी हुई फीस : दिल्ली सरकार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Schools can increase school fee by 10 percent annually