ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशआसनसोल से बीजेपी ने गलत दे दिया था टिकट? पवन सिंह ने क्यों वापस लिया नाम; ताकत ही बन गई कमजोरी

आसनसोल से बीजेपी ने गलत दे दिया था टिकट? पवन सिंह ने क्यों वापस लिया नाम; ताकत ही बन गई कमजोरी

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने आरोप लगाया कि पवन सिंह के कई गाने असभ्य हैं और उनमें राज्य की महिलाओं सहित सभी महिलाओं को अश्लील तरीके से चित्रित किया गया है।

आसनसोल से बीजेपी ने गलत दे दिया था टिकट? पवन सिंह ने क्यों वापस लिया नाम; ताकत ही बन गई कमजोरी
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताSun, 03 Mar 2024 05:10 PM
ऐप पर पढ़ें

भोजपुरी गायक व एक्टर पवन सिंह ने पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार के तौर पर अपना नाम वापस ले लिया। पार्टी ने एक दिन पहले ही उन्हें इस सीट से उम्मीदवार घोषित किया था। अब पवन सिंह के पीछे हटने पर तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी आलाकमान पर जमकर निशाना साधा है। टीएमसी की राज्यसभा सांसद सागरिका घोष ने कहा कि बंगाल में बीजेपी की नारी शक्ति की बातें खोखली और निरर्थक हैं। उन्होंने एक्स पर लिखा, 'ब्रेकिंग न्यूज। तृणमूल कांग्रेस का प्रभाव! आसनसोल में भाजपा उम्मीदवार के सेक्सिस्ट वीडियो पर भारी विरोध हुआ जिसके बाद उसने अपना नाम वापस ले लिया। राज्य में भाजपा की नारी शक्ति को लेकर अपील धराशायी हो गई है जो की खोखली और निरर्थक थी।'

38 वर्षीय पवन सिंह बिहार के रहने वाले हैं, जिन्हें बंगाल की सीट से बीजेपी का उम्मीदवार बनाने पर विवाद खड़ा हो गया था। कई लोग उनके भोजपुरी गानों के वीडियोज का जिक्र कर रहे थे और दावा किया जाने लगा कि इनमें बंगाली महिलाओं का अपमान किया गया है। सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि सोशल मीडिया पर आ रही प्रतिक्रियाओं ने बीजेपी की चिंता बढ़ा दी। पवन सिंह की उम्मीदवारी से आसनसोल में पार्टी की संभावनाओं को नुकसान पहुंचने की चर्चा होने लगी। बताया जा रहा है कि इसे ध्यान में रखते हुए उन्हें हटाने का फैसला हुआ और उन्हें इसकी सूचना दी गई। इसके बाद एक्टर ने कहा कि वह खुद चुनाव से नहीं लड़ना चाहते हैं। 

पवन सिंह ने अपने फैसले का कारण नहीं बताया मगर...
पवन सिंह ने उन्हें उम्मीदवार घोषित करने के लिए भाजपा नेतृत्व को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि वह किसी कारणवश आसनसोल से चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। उन्होंने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लिखा, ‘भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का दिल से आभार प्रकट करता हूं। पार्टी ने मुझ पर विश्वास करके मुझे आसनसोल का उम्मीदवार घोषित किया लेकिन किसी कारणवश में आसनसोल से चुनाव नहीं लड़ पाऊंगा।’ सिंह ने अपने इस फैसले का कारण नहीं बताया, लेकिन उन्हें उम्मीदवार घोषित किए जाने की तृणमूल कांग्रेस ने आलोचना की थी। 

टीएमसी के नेता जमकर साध रहे निशाना
पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पवन सिंह के कई गाने असभ्य हैं और उनमें राज्य की महिलाओं सहित सभी महिलाओं को अश्लील तरीके से चित्रित किया गया है। तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने कहा कि यह कदम पश्चिम बंगाल के लोगों की अदम्य भावना और एकजुटता का नतीजा है। वहीं, पार्टी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने चुटकी लेते हुए कहा, 'खेला शुरू होने से पहले ही यह खेला होबे है।'

गौरतलब है कि आसनसोल में बड़ी संख्या में अन्य राज्यों से आए लोग रहते हैं। भाजपा को उम्मीद थी कि शत्रुघ्न सिन्हा के खिलाफ पवन सिंह प्रभावी उम्मीदवार साबित होंगे। सिन्हा ने 2019 में भाजपा छोड़ दी थी। स्पष्ट रूप से, भाजपा ने सिंह की उम्मीदवारी को लेकर ऐसे समय में विवाद खड़ा होने के मद्देनजर उन्हें उम्मीदवारी छोड़ने के लिए राजी किया, जब पार्टी संदेशखाली विवाद को लेकर तृणमूल पर निशाना साध रही है। संदेशखाली में कई महिलाओं ने निलंबित तृणमूल नेता शाहजहां शेख और उनके सहयोगियों पर यौन उत्पीड़न व जमीन हड़पने का आरोप लगाया है। शेख और उसके कई साथियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 
(एजेंसी इनपुट के साथ)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें