अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्जिकल स्ट्राइकः तेंदुए के मल-मूत्र ने की थी जवानों की हिफाजत, अधिकारी ने किया खुलासा

लोगों में आज भी उत्सुकता बनी रहती है कि आखिरकार भारतीय सेना ने इतने बड़े ऑपरेशन को किस तरह से मुकाम तक पहुंचाया। सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़ी कुछ ही बातें अभी तक लोगों के सामने आई हैं।

भारतीय सीमा(एचटी फाइल फोटो)

2016 में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक में तेंदुए के मल-मूत्र ने भी एक अहम हथियार के तौर पर जवानों की मदद की थी। भारतीय सेना ने जिस अंदाज में इस ऑपरेशन को अंजाम दिया उसे जानकर पाकिस्तान के साथ-साथ अन्य देश भी अवाक रह गए थे।

लोगों में आज भी उत्सुकता बनी रहती है कि आखिरकार भारतीय सेना ने इतने बड़े ऑपरेशन को किस तरह से मुकाम तक पहुंचाया। सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़ी कुछ ही बातें अभी तक लोगों के सामने आई हैं। अब इस ऑपरेशन की अगुवाई करने वाले पूर्व नगरोटा कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल राजेंद्र निम्भोड़कर ने इस ऑपरेशन से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातों से पर्दा उठाया है। 

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक निम्भोड़कर ने बताया है कि भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तानी इलाके में सर्जिकल हमलों के दौरान कुत्तों को दूर रखने के लिए तेंदुए का मल-मूत्र इस्तेमाल किया था। जवानों ने तेंदुए का मल-मूत्र अपने साथ लिया था जिसके चलते कुत्तों ने आगे आने की हिम्मत नहीं की।

निम्भोड़कर ने पुणे में स्थित थोरल बाजीराव पेशवा प्रतिष्ठान द्वारा आयोजित एक पुरस्कार प्रस्तुति समारोह के दौरान इस बात का जिक्र किया।

याद दिला दें कि सितंबर 2016 में भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा पार कर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादी शिविरों को नष्ट कर दिया था। ऑपरेशन को 18 सितंबर को उड़ी में सेना पर हुए आतंकवादी हमले के बदले में अंजाम दिया था। उड़ी में हुए आतंकी हमले में 19 सैनिक मारे गए थे।

मंगल पर इंसान को भेजने से पहले नासा ने तैयार की मुश्किलों की ये लिस्ट

उत्तराखंड में 4 KM अंदर तक घुसा चीन, 3 बार हुई घुसपैठ की कोशिश

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:role leopard urine and faeces played in surgical strikes on Pakistan