ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देश'मोहब्बत की दुकान खोलने वालों ने तो...', रोहित वेमुला केस को लेकर कांग्रेस पर बरसीं सीतारमण

'मोहब्बत की दुकान खोलने वालों ने तो...', रोहित वेमुला केस को लेकर कांग्रेस पर बरसीं सीतारमण

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा, 'रोहित वेमुला की डेथ केस को यूनिवर्सिटी पूरी तरह संभाल सकता थी, मगर इसे सरकार और भाजपा के खिलाफ कहानी बनाकर देश भर में घसीटा गया।'

'मोहब्बत की दुकान खोलने वालों ने तो...', रोहित वेमुला केस को लेकर कांग्रेस पर बरसीं सीतारमण
rohith vemula death case nirmala sitharaman
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 04 May 2024 06:24 PM
ऐप पर पढ़ें

रोहित वेमुला की मौत के मामले में तेलंगाना पुलिस ने क्लोजर रिपोर्ट सौंप दी है। इसके एक दिन बाद, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मामले को लेकर राजनीति करने के लिए कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि संवेदनशील मामलों को कभी भी पॉलिटिकल नैरेटिव से नहीं जोड़ना चाहिए। सीतारमण ने कहा, 'रोहित वेमुला की डेथ केस को यूनिवर्सिटी पूरी तरह संभाल सकती थी, मगर इसे सरकार और भाजपा के खिलाफ कहानी बनाकर देश भर में घसीटा गया। मैं रोहित वेमुला मामले को उदाहरण के तौर पर बताना चाहूंगी कि कैसे इसका राजनीतिक इस्तेमाल किया गया। आखिर कैसे दुर्भाग्यपूर्ण घटना को विश्वविद्यालय को पूरी संवेदनशीलता के साथ संभालने नहीं दिया गया और इसे लेकर सरकार के खिलाफ कहानी बनाई गई।'

निर्मला सीतारमण ने कहा कि जिन लोगों ने इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना का मजाक बनाया और परिवार को सड़कों पर घसीटा, उन्हें इसे लेकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने संसद में वेमुला की आत्महत्या का मुद्दा उठाया था। इसे लेकर उन्होंने केंद्र सरकार और पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति इरानी पर जाति-आधारित राजनीति करने का आरोप लगाया। मगर, आज तो तथ्य सामने आ गए हैं। हम जान गए हैं कि कहानी गढ़ी गई थी। इस केस में जो भी दबाव आया और टॉक्सिक एनवायरनमेंट बना वो सरकार की ओर से नहीं, बल्कि निहित स्वार्थी समूहों की ओर से था।' उन्होंने कहा कि मोहब्बत की दुकान चलाने वाले ने इस मामले को संसद में उठाया और यह सब किया।

क्लोजर रिपोर्ट में क्या कहा गया
दरअसल, पुलिस ने रोहित वेमुला की मौत के मामले में स्थानीय अदालत के समक्ष क्लोजर रिपोर्ट दायर की है, जिसमें दावा किया गया कि वह दलित नहीं था। 2016 में उसने इस डर की वजह से आत्महत्या कर ली कि कहीं उसकी वास्तविक जाति के बारे में सबको पता न चल जाए। इस क्लोजर रिपोर्ट पर वेमुला की मां और अन्य लोगों की ओर से संदेह जताया गया है। इसको देखते हुए तेलंगाना के पुलिस महानिदेशकरवि गुप्ता पहले ही मामले की विस्तृत जांच की घोषणा कर चुके हैं। उन्होंने शुक्रवार रात कहा कि संबंधित अदालत में याचिका दायर कर मजिस्ट्रेट से मामले की आगे की जांच की अनुमति देने का अनुरोध किया जाएगा। पुलिस ने मामले में सबूतों के अभाव का हवाला देते हुए हरियाणा के निवर्तमान राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, भाजपा के पूर्व विधान परिषद सदस्य रामचंदर राव समेत आरोपियों को क्लीन चिट दे दी।