DA Image
24 जनवरी, 2020|2:38|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क हादसे घटे, पर मृतकों की संख्या बढ़ी;गडकरी ने दी संसद में जानकारी

सरकार ने सोमवार को माना कि मोटर वाहन कानून को सख्ती के साथ लागू किए जाने के बावजूद देश में सड़क हादसों में जान गंवाने वालों की संख्या में कमी नहीं आई है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि पिछले साल जनवरी से सितंबर माह के मुकाबले 2019 में इसी अवधि में सड़क हादसों में 2.2 प्रतिशत की कमी आई है। हालांकि, इनमें मरने वालों की संख्या 0.2 प्रतिशत बढ़ गई है। 

गडकरी ने कहा, ताजा आंकड़े देखने के बाद मुझे दुख से कहना पड़ता है कि अभी भी सड़क हादसों और मरने वालों की संख्या में कोई ज्यादा फर्क नहीं आया है। इसके लिए सड़क इंजीनियरिंग संबंधी खामियां मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं। उन्होंने बताया कि सड़क इंजीनियरिंग में सुधार और हादसे वाले ब्लैक स्पॉट की पहचान कर इन्हें दुरुस्त करने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने सात हजार करोड़ रुपये की दो परियोजनाएं विश्व बैंक और एशिया विकास बैंक (एडीबी) को सौंपी है। 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि संशोधित मोटर वाहन कानून में यातायात नियमों के उल्लंघन पर जुर्माना राशि में भारी इजाफे का उद्देश्य राजस्व प्राप्त करना नहीं, बल्कि 25 साल पहले निर्धारित जुर्माना राशि को समयानुकूल बनाते हुए लोगों को कानून के पालन के प्रति जागरूक बनाना है। उन्होंने तमिलनाडु में सड़क हादसों में 29 प्रतिशत की कमी आने का हवाला देते हुए कहा कि इस कानून को कारगर तरीके से लागू करने के लिए तमिलनाडु का मॉडल अनुकरणीय है। अन्य राज्यों से भी इसे अपनाने का अनुरोध किया गया है।     

आंकड़ों की जुबानी

पिछले साल जनवरी से सितंबर माह के बीच देश में कुल 3.46 लाख सड़क हादसे हुए, जिनमें 112469 लोगों की मौत हुई जबकि 3.55 लाख लोग घायल हुए।  वहीं, इस साल जनवरी से सितंबर के दौरान सड़क दुर्घटनाएं 2.2 प्रतिशत की कमी के साथ घटकर 3.39 लाख हुईं। हालांकि, इस अवधि में मृतकों की संख्या 0.2 प्रतिशत इजाफे के साथ 112735 पर पहुंच गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Road accident decreased but the number of dead person increased says Gadkari