DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीब को आरक्षण संविधान की अवहेलना नहीं : जेटली

अरुण जेटली

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में आर्थिक रूप से पिछड़े तबके के लोगों को 10 फीसदी आरक्षण देना संविधान के मूल ढांचे के विपरीत नहीं है। उन्होंने इस पहल को सामान्य वर्ग के गरीबों को सबसे बड़ी मान्यता देने वाला कदम बताया है।

उन्होंने मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह केवल खोखली बात कर रही है और उसने इस हफ्ते संसद में पारित संविधान संशोधन विधेयक का बेमन से समर्थन किया। उन्होंने कहा कि गरीबी एक धर्मनिरपेक्ष मापदंड है और यह किसी भी समुदाय या धर्म के व्यक्ति में हो सकता है।

गरीबी के आधार पर आरक्षण दिया जाना किसी भी तरह से संविधान के मूल ढांचे के विपरीत नहीं है। उन्होंने कहा कि गरीबी आधारित आरक्षण देने का प्रधानमंत्री का निर्णय सामान्य वर्ग के गरीबों को ‘सबसे बड़ी मान्यता या उनके प्रति सरोकार’ को दर्शाता है और गरीबी उन्मूलन की आवश्यकता पर जोर देना है।

अमित शाह बोले- पीएम मोदी अपराजेय इसलिए विपक्ष ढूंढ़ रहा सहयोगी

ममता ने 'द ऐक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' की रिलीज के समय पर उठाए सवाल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:reservation to poor is not neglegence of constitution says Arun Jaitley