DA Image
20 जनवरी, 2021|7:28|IST

अगली स्टोरी

सुसाइड केस: रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

republic tv editor-in-chief arnab goswami  file pic

1 / 2Republic TV Editor-in-Chief Arnab Goswami (File Pic)

reactions on arnab goswami case live updates bjp compares arnab goswam arrest with emergency

2 / 2Republic TV Editor in Chief Arnab Goswami (File Pic)

PreviousNext

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को बुधवार की रात अलीबाग कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिका हिरासत में भेज दिया है। खुदकुशी केस में अब वह 18 नवबंर तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे। मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी को बुधवार की सुबह उनके घर से गिरफ्तार किया था। इसके बाद अर्नब ने परिवारवालों के सामने पुलिस पर बदसलूकी और पिटाई का आरोप लगाया।

अर्नब के वकील बोले- पुलिस हिरासत में न भेजना हमारी बड़ी जीत

अर्नब गोस्वामी के वकील गोरव पारकर ने बताया कि पुलिस हिरासत में न देकर न्यायिक हिरासत में भेजना यह उनकी बड़ी जीत है। उन्होंने कहा- “यह हमारे लिए बड़ी जीत है। पहले ही दिन न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस हिरासत से इनकार किया गया और मजिस्ट्रेट कस्टडी दी गई है। हमने जमानत के लिए अर्जी लगाई है। इसे जिरह के लिए रख लिया गया है। इस पर कल फैसला किया जाएगा।”

अर्नब का पुलिस पर मारपीट का आरोप

साल 2018 के एक मामले में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा गिरफ्तारी के बाद अर्नब गोस्वामी ने पुलिसकर्मियों पर मारपीट करने का आरोप लगाया है। गोस्वामी को इंटीरियर डिजाइनर आज्ञा नाइक को कथित रूप से आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने मामले में गिरफ्तार किया गया है। रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्वामी ने चोट के निशान दिखाते हुए बुधवार शाम को कहा, ''पुलिसकर्मियों ने मुझे चारों ओर से घेरा, मुझे धक्का दिया। मैं यहां बिना जूते के हूं...मेरे साथ मारपीट की गई है।" इस दौरान, उनके आसपास मुंबई पुलिसकर्मी मौजूद थे, जो उन्हें थाने लेकर जा रहे थे। 

ये भी पढ़ें: मुझे चारों ओर से घेरा, की गई मारपीट... चोट दिखाते हुए बोले अर्नब

इससे पहले, अर्नब गोस्वामी के वकील ने भी बताया था कि उनकी गिरफ्तारी की जानकारी उनकी पत्नी को नहीं थी। उनके साथ दो पुलिस अधिकारियों ने मारपीट की। उनके परिवार के सदस्यों को धक्का दिया गया और घर को 3 घंटे के लिए बंद कर दिया गया। उनके बाएं हाथ पर खरोंच है और उनके हाथ पर मौजूदा चोट के चलते लगी पट्टी को हटाने की कोशिश भी की गई।

क्या है पूरा मामला?

53 वर्षीय इंटीरियर डिज़ाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक मई 2018 में अलीबाग तालुका के कावीर गांव में अपने फार्महाउस पर मृत पाए गए थे। अन्वय फर्स्ट फ्लोर पर मृत पाए गए, जबकि उनकी मां का शव ग्राउंड फ्लोर पर मिला था। इसके बाद 48 वर्षीय अन्वय की पत्नी अक्षता नाइक ने मामला दर्ज कराया था। उस घटना के बाद जो सुसाइड नोट मिला, उसमें मृतक ने आरोप लगाया था कि उसे और उसकी मां को अपनी जिंदगी समाप्त करने के लिए मजबूर होना पड़ा, क्योंकि उन्हें अर्नब गोस्वामी और दो अन्य फिरोज शेख और नितेश सरदा के द्वारा 5.40 करोड़ रुपये की बकाया राशि का भुगतान नहीं किया गया।

ये भी पढ़ें: खुदकुशी के एक पुराने केस में पुलिस ने अर्नब गोस्वामी को किया गिरफ्तार

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Republic TV Editor in Chief Arnab Goswami sent to 14-day judicial custody