ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशरेमल चक्रवात से भीषण गर्मी में मिलेगी राहत, किस राज्य में कितना असर; 120 की स्पीड से चलेंगी हवाएं

रेमल चक्रवात से भीषण गर्मी में मिलेगी राहत, किस राज्य में कितना असर; 120 की स्पीड से चलेंगी हवाएं

भारतीय मौसम विभाग ने बंगाल की खाड़ी में उठते रेमल चक्रवात का रूट बताया साथ ही मछुआरों और तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए चेतावनी भी जारी की ताकि उन्हें चक्रवात के घातक परिणामों से बचाया जा सके.

रेमल चक्रवात से भीषण गर्मी में मिलेगी राहत, किस राज्य में कितना असर; 120 की स्पीड से चलेंगी हवाएं
Ratanलाइव हिन्दुस्तान,पश्चिम बंगालFri, 24 May 2024 12:57 PM
ऐप पर पढ़ें

बंगाल की खाड़ी के पश्चिम और दक्षिण हिस्से के ऊपर कम दाब की स्थिति बन रही है।भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि इस सप्ताह के अंत में बांग्लादेश, पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा में चक्रवाती तूफान के आने की संभावना बन रही है। अब इसके रूट की बात करें तो 26 मई की शाम तक यह चक्रवात बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तट पर टकराएगा। यह पहला चक्रवात होगा, जो मॉनसून की शुरुआत से पहले आएगा। 

क्या होगा रेमल का रूट और कहां कैसा असर

रेमल चक्रवात बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी हिस्से में कम दाब होने के कारण बनेगा। यहां से यह मध्यवर्ती भाग की तरफ बढ़ते हुए उत्तर की तरफ पहुंचकर भारत के तटीय इलाकों से टकराएगा। हालांकि सबसे पहले यह चक्रवात बांग्लादेश पहुंचेगा, लेकिन भारत में सबसे पहले पश्चिम बंगाल और फिर उससे लगने वाले राज्या उड़ीसा के उत्तरी हिस्से से जाकर टकराएगा।23-24 मई के आस-पास अंडमान आइसलैंड पर भी पहुंचने का अनुमान है। चक्रवात का प्रभाव मिजोरम, त्रिपुरा और दक्षिण मणिपुर पर भी पडे़गा।

तेज बारिश और तेज हवाओं की जारी हुई चेतावनी

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने  26 और 27 मई को ज्यादातर हिस्सों में मध्यम बर्षा होने की बात कही गई है। जबकि इसी समय ऊत्तरी उड़ीशा और पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में तेज बारिश होने की संभावना जताई गई है। इसी तरह मिजोरम, त्रिपुरा और दक्षिण मणिपुर के कुछ हिस्सों में बहुत अधिक बारिश होने का अनुमान लगाया गया है। 

बंगाल की खाड़ी में इस चक्रवात से 60 किमी से लेकर 120 किमी प्रति घंटा तक की स्पीड वाली हवाओं के चलने का अनुमान लगाया जा रहा है। इसी के साथ यह राहत की खबर है कि जैसे-जैसे चक्रवात तटीय इलाके की तरफ बढ़ेगा इसकी हवाओं की गति धीमी होने का अनुमान है। 

चक्रवात के दौरान समुद्र की स्थिति रहेगी नाजुक

तेजी से उठते चक्रवात रेमल के कारण समुद्र की स्थिति काफी खराब होने का अनुमान है। इस स्थिति के बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी और मध्य हिस्से से धीरे-धीरे आगे बढ़ने का भी अनुमान है। समुद्र में उठता तूफान धीरे-धीरे बांग्लादेश, पश्चिम बंगाल और उडीसा के उत्तरी हिस्से के तटीय भागो में भी 25 मई तक पहुंचने का अनुमान है। बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटीय हिस्सों पर यह स्थिति 27 मई की सुबह तक बनी रहने का अनुमान है।  हालांकि अंडमान आइसलैंड पर यह नाजुक स्थिति 23 और 24 मई तक ही रहेगी।

मछुआरों को समुद्र में न जाने की मिली चेतावनी

मछली पकड़ने वाले मछुआरों को सुरक्षित रखने के लिए सरकार ने चेतावनी जारी की है कि इन दिनों समुद्र के इन हिस्सों में मछलियां पकड़ने न जाएं। अगर जाएं भी तो तटीय इलाके से ज्यादा अंदर गहरे पानी में न जाएं, क्योंकि रेमल चक्रवात से लोगों को हानी पहुंचने की संभावना बनी हुई है। बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी हिस्से में 24 मई, मध्यवर्ती भाग में 26 मई और उत्तरी हिस्से में 24 मई तक चक्रवात रेमल द्वारा नुकसान पहुंचाने की संभावना बनी हुई है। जो मछुआरे समुद्र में गए हुए हैं उन लोगों को बाहर आने के लिए चेतावनी जारी कर दी गई है।
 

Advertisement