DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहत : घाटी के कई इलाकों में टेलीफोन सेवा शुरू, 20 दिन में 23 करोड़ की दवाइयां बिकीं, बाजार 21वें दिन भी बंद

 supreme court  jammu kashmir

अनुच्छेद 370 हटने के बाद से कश्मीर में लगातार स्थिति में सुधार हो रहा है। इस देखते हुए प्रशासन ने अधिकतर स्थानों पर लैंडलाइन टेलीफोन सेवाएं बहाल कर दी हैं। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार से घाटी में कहीं भी किसी अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है। उन्होंने बताया कि स्थिति बेहतर होते देख संचार सेवाओं में ढील दी गई है।

अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर सहित कई जगह शनिवार शाम लैंडलाइन टेलीफोन सेवाएं बहाल कर दी गईं। उन्होंने बताया कि कुछ स्थानों को छोड़कर लैंडलाइन सेवाएं पूरी तरह बहाल करने का काम जारी है। लाल चौक और प्रेस एन्वलेव में सेवाएं अब भी निलंबित हैं।

जम्मू-कश्मीर में फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं: राज्यपाल सत्यपाल मलिक

राज्य के प्रधान सचिव एवं सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने शनिवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में अन्य आठ एक्सचेंज, जिसके अंतर्गत 5,300 लैंडलाइन सेवाएं आती हैं, सप्ताहांत तक बहाल किए जाएंगे। बीएसएनएल और अन्य निजी इंटरनेट सेवाओं सहित मोबाइल टेलीफोन सेवाएं और इंटरनेट सेवाएं अभी निलंबित ही हैं।

बाजार लगातार 21वें दिन बंद रहे
कश्मीर में लगातार 21वें दिन बंद रहे, दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान भी बंद रहे। वहीं, सार्वजनिक वाहन भी सड़कों से नदारद रहे। साप्ताहिक बाजार भी नहीं लगे। शहर में कुछ जगह हालांकि कुछ फेरीवालों ने दुकानें लगाईं। 

65 फीसदी दुकानें खुली हैं
* 1165 दवा की दुकानें खुली हैं 1666 में से श्रीनगर में।
* 7630 खुदरा केमिस्ट की और 4331 दवा की थोक दुकानें हैं।
* 65 फीसदी दवा की दुकानें इनमें से खुली हैं।
* 376  सभी अधिसूचित दवाएं सरकारी दुकानों और निजी खुदरा दुकानों पर उपलब्ध हैं।
* 62 आवश्यक जीवन रक्षक दवाएं भी घाटी की इन सभी दुकानों में मौजूद हैं।
* 15 से 20 दिन का स्टॉक मौजूद है इन दवाओं का घाटी में।

कालाबाजारी का मामला नहीं
गृहमंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि घाटी में 72 जगहों पर जांच की गई। इसमें कहीं भी कालाबाजारी या अधिक दाम पर सामान बेचने का मामला सामने नहीं आया। घाटी में आवश्यक समान मुहैया कराने की जिम्मेदारी श्रीनगर के एसडीएम (पूर्वी) उठा रहे हैं। 

जरूरी सामान का भी भंडारण
छोटे बच्चों का पाउडर वाला दूध व अन्य बेबी फूड का भंडारण तीन सप्ताह के लिए मौजूद है। बेबी फूड जल्दी से जल्दी निकालने के लिए जम्मू एवं चंडीगढ़ में तीन-तीन व्यक्तियों को तैनात किया गया है। जम्मू में किसी आर्डर को पहुंचाने में 15 घंटे का ही समय लग रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Relief in kashmir Valley Telephone Services Starts in Many Areas