ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देश'रतन टाटा की सिफारिश' पर कर रहे हैं निवेश, तो हो जाएं सावधान! दिग्गज उद्योगपति ने खुद किया अलर्ट

'रतन टाटा की सिफारिश' पर कर रहे हैं निवेश, तो हो जाएं सावधान! दिग्गज उद्योगपति ने खुद किया अलर्ट

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है जिसमें जोखिम-मुक्त और 100 प्रतिशत गारंटी के साथ बढ़ा-चढ़ाकर निवेश करने के लिए रतन टाटा के नाम का दुरुपयोग किया जा रहा है।

'रतन टाटा की सिफारिश' पर कर रहे हैं निवेश, तो हो जाएं सावधान! दिग्गज उद्योगपति ने खुद किया अलर्ट
Amit Kumarएजेंसियां,नई दिल्लीWed, 06 Dec 2023 11:36 PM
ऐप पर पढ़ें

डीपफेक वीडियो के जरिए बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम पर ठगी की जा रही है। ठगों ने बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के अलावा, दिग्गज उद्योगपति और टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा को भी निशाना बनाया है। दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है जिसमें जोखिम-मुक्त और 100 प्रतिशत गारंटी के साथ "बढ़ा-चढ़ाकर निवेश" करने के लिए रतन टाटा के नाम का दुरुपयोग किया जा रहा है।

इस इस वीडियो पर खुद रतन टाटा ने बुधवार को लोगों को अलर्ट किया। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा कि ये वीडियो फर्जी है। इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में, रतन टाटा ने सोना अग्रवाल नाम के एक यूजर्स की पोस्ट की आलोचना की, जिसमें निवेश की सिफारिश करने वाले एक वीडियो में उनके फर्जी इंटरव्यू का इस्तेमाल किया गया था।

नकली वीडियो में, रतन टाटा सोना अग्रवाल को अपना मैनेजर बताते नजर आ रहे हैं। वीडियो पोस्ट के कैप्शन में लिखा है, "भारत में हर किसी के लिए रतन टाटा की ओर से एक सिफारिश। यह आपके लिए आज ही जोखिम मुक्त होकर 100 प्रतिशत गारंटी के साथ अपने निवेश को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने का मौका है। अभी चैनल पर जाएं।" वीडियो में लोगों के खातों में पैसे आने के मैसेजेस भी दिखाए गए। अब रतन टाटा ने वीडियो पर और वीडियो के कैप्शन के स्क्रीनशॉट पर FAKE लिखकर अपने फॉलोअर्स को आगाह किया है। 

बता दें कि ‘डीपफेक’ का आशय छेड़छाड़ की गई मीडिया सामग्री से है। इसमें किसी भी व्यक्ति को गलत ढंग से पेश करने या दिखाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से डिजिटल हेराफेरी की जाती है और उसे बदल दिया जाता है। हाल ही में कुछ फिल्म कलाकारों को निशाना बनाने वाले कई ‘डीपफेक’ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। उसके बाद छेड़छाड़ की गई सामग्री और नकली आख्यान बनाने के लिए प्रौद्योगिकी एवं उपकरणों के दुरुपयोग को लेकर सरकार सतर्क हो गई है।

केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने ‘डीपफेक’ और भ्रामक सूचना के मुद्दे से निपटने के लिए उठाए गए कदमों की मंगलवार को सोशल मीडिया मंचों के साथ समीक्षा करते हुए कहा कि अगले दो दिन में शत-प्रतिशत अनुपालन को लेकर परामर्श जारी कर दिया जाएगा। सूचना प्रौद्योगिकी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स राज्यमंत्री चंद्रशेखर ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर कहा कि सोशल मीडिया मंचों को नए नियमों का अनुपालन सुनिश्चित करना और ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं के विश्वास एवं सुरक्षा पर सरकार का विशेष ध्यान है।

उन्होंने कहा, ‘‘भ्रामक सूचनाओं और डीपफेक पर सोशल मीडिया कंपनियों के साथ दूसरी बैठक हुई जिसमें पिछली बैठक के बाद हुई प्रगति की समीक्षा की गई। कई मंच पहली बैठक में लिए गए फैसलों का पालन कर रहे हैं और अगले दो दिन में 100 प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए परामर्श जारी कर दिया जाएगा।’’

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें