ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशफुटबॉल के 3 मैदानों जितनी रेंज, AK-203 राइफल के बारे में जानें सबकुछ

फुटबॉल के 3 मैदानों जितनी रेंज, AK-203 राइफल के बारे में जानें सबकुछ

भारत और रूस के बीच सोमवार को एके-203 राइफलों के उत्पादन के लिए 5100 करोड़ रुपये का बहुप्रतीक्षित करार हो गया।  इस करार के तहत 5 लाख से ज्यादा एके-203 राइफलों का उत्पादन भारत और रूस मिलकर करेंगे।...

फुटबॉल के 3 मैदानों जितनी रेंज, AK-203 राइफल के बारे में जानें सबकुछ
Priyankaहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीMon, 06 Dec 2021 01:59 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भारत और रूस के बीच सोमवार को एके-203 राइफलों के उत्पादन के लिए 5100 करोड़ रुपये का बहुप्रतीक्षित करार हो गया।  इस करार के तहत 5 लाख से ज्यादा एके-203 राइफलों का उत्पादन भारत और रूस मिलकर करेंगे। यह राइफलें उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले की फैक्ट्री में बनेंगी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनके रूसी समकक्ष सर्गेई शोइगु की बैठक में यह डील फाइनल हुई। कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (सीसीएस) ने इस प्रोजेक्ट को बीते हफ्ते ही मंजूरी दे दी थी।

AK-203 राइफल की कुछ विशेषताएं:

1. 7.62 X 39mm कैलिबर की एके-203 राइफलें सेना में बीते तीन दशकों से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहीं INSAS राइफल की जगह लेंगी।

2. रूसी मूल की इस राइफल के मॉडर्न वर्जन से 300 मीटर की रेंज तय की जा सकती है या फिर तीन फुटबॉल के मैदानों जितनी। इतना ही नहीं, इन राइफल्स का वजन कम है और ये मजबूत भी हैं।

3. यह असॉल्ट राइफल 7.62 एमएम के बड़े राउंड फायर करती है, जबकि कम शक्ति वाली समान राइफलें छोटे 5.56 एमएम राउंड फायर करती हैं।

4. नई राइफलों में मौजूद आधुनिक तकनीक से ये स्पेशल साइट और ग्रिप्स जैसे हाई-टेक ऐड ऑन भी इस्तेमाल करने में सक्षम हैं। ये ऐड-ऑन विशेष बलों के मिशनों में काम आते हैं।

5. सरकार ने कहा है कि ये असॉल्ट राइफलें उग्रवाद और आतंकवाद विरोधी अभियानों में भारतीय सेना की ताकत को बढ़ाएगी।

6. उत्तर प्रदेश सरकार ने बीते शनिवार एक बयान में कहा था कि केंद्र सरकार ने कोरवा में एके-203 राइफलों के उत्पादन को मंजूरी दे दी है और यह जल्दी ही शुरू भी हो जाएगा। 

7. AK-203 राइफल्स का निर्माण भारत-रूसी राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड नामक एक जॉइंट वेंचर के तहत किया जाएगा। इसमें एडवांस्ड वेपन्स एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड और म्यूनिशंस इंडिया लिमिडटेड और रूस की रोसोबोरॉनएक्सपोर्ट और कलाशनिकोव शामिल हैं।

8. यह प्रोजेक्ट मोदी सरकार के 'मेक इन इंडिया' पहल के तहत रूसी सरकार के साथ किया गया जॉइंट वेंचर है।

epaper