अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भीमा-कोरेगांव हिंसा: दंगा भड़काने के आरोप में दिल्ली से पुणे तक छह गिरफ्तार

Bhima Koregaon violence

1 / 2Bhima Koregaon violence

Bhima Koregaon violence

2 / 2Bhima Koregaon violence

PreviousNext

इस साल जनवरी में पुणे के नजदीक भीमा-कोरेगांव में दंगा भड़काने के आरोप में पुलिस ने बुधवार को चार नामचीन दलित कार्यकर्ता और एक नागपुर यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही, पुणे पुलिस ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल की मदद से राणा जैकब को गिरफ्तार कर उसे पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया है।

भीमा-कोरेगांव हिंसा केस में 6 गिरफ्तारी
पुणे के ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस रवीन्द्र कदम ने बताया कि उन्होंने भीमा-कोरेगांव में दंगा भड़काने के आरोप में विश्राम बाग पुलिस स्टेशन में दर्ज किए गए केस के बाद पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। कदम ने आगे बताया- “ताज़ा गिरफ्तारी नागपुर यूनिवर्सिटी के सोमा सेन की हुई है।” उन्होंने आगे कहा कि हम भीमा-कोरेगांव दंगा में उन सभी के माओवादी संबंध के पहलुओं से भी जांच कर रहे हैं।
 
राणा जैकब की पटियाला हाउस कोर्ट में हुई पेशी

महाराष्ट्र की भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोपी राणा जैकब को आज पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। जैकब को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की की मदद से पुणे पुलिस ने गिरफ्तार किया। उसके ऊपर भीमा-कोरेगांव हिंसा को हवा देने का आरोप है। जैकब की गिरफ्तारी के बाद अब तक तीन लोग इस मामले में मुंबई, नागपुर और दिल्ली से पुणे पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तीनों के ऊपर विवादास्पद पर्चे बांटने और घृणास्पद भाषण देने का आरोप है।


Bhima Koregaon violence

गौरतलब है कि 1 जनवरी को पुणे में दलित समुदाय भीमा-कोरेगांव की लड़ाई की 200वीं सालगिरह मना रहे थे। जिसमें दो गुटों में हिंसक झड़प में एक दलित व्यक्ति की मौत हो गई जबकि कई घायल हो गए। इसी घटना के बाद दलित संगठनों ने 2 दिनों तक मुंबई समेत राज्य के अन्य इलाकों में बंद बुलाया जिसके दौरान फिर से तोड़-फोड़ और आगजनी हुई थी। 
 

क्यों मनाया जाता है भीमा-कोरेगांव में जश्न
1 जनवरी 1818 को पुणे के पास कोरेगांव में एक लड़ाई हुई थी। ये लड़ाई ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना और पेशवाओं की फौज के बीच हुई थी। इस लड़ाई में अंग्रेज़ों की तरफ से महार जाति के लोगों ने लड़ाई की थी और इन्हीं लोगों की वजह से अंग्रेज़ों की सेना ने पेशवाओं को हरा दिया था। महार जाति के लोग दलित होते हैं। ये लोग इस युद्ध को अपनी जीत और स्वाभिमान के तौर पर देखते हैं और इस जीत का जश्न हर साल मनाते हैं।      

ये भी पढ़ें: भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो: भिडे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rana Jacob accused of Bhima-Koregaon violence produced in Patiala House Court