ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशराम मंदिर के गर्भ गृह की सफाई के लिए रामलला को मिला अनोखा उपहार, जानिए इसकी खासियत

राम मंदिर के गर्भ गृह की सफाई के लिए रामलला को मिला अनोखा उपहार, जानिए इसकी खासियत

भगवान राम के बाल रूप के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ कम होने का नाम नहीं हो रही है। देश भर से भक्तों ने रामलला के लिए तरह-तरह के उपहार भेजना भी शुरू कर दिया है।

राम मंदिर के गर्भ गृह की सफाई के लिए रामलला को मिला अनोखा उपहार, जानिए इसकी खासियत
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,अयोध्याSun, 28 Jan 2024 10:16 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या के भव्य राम मंदिर में 22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की गई। अगले दिन यानी 23 तारीख से राम मंदिर जनता के लिए खोल दिया गया। अब भगवान राम के बाल रूप के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ कम होने का नाम नहीं हो रही है। देश भर से भक्तों ने रामलला के लिए तरह-तरह के उपहार भेजना भी शुरू कर दिया है, जिनमें से कई पैसों के लिहाज से काफी मूल्यवान हैं। अब मंदिर के गर्भगृह को साफ-सुथरा रखने के लिए चांदी की झाड़ू रामलला को उपहार किया गया है। उस झाड़ू का वजन लगभग 2 किलोग्राम है!

यह झाड़ू राम भक्तों के संगठन अखिल भारतीय मंगा समाज द्वारा राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट को भेजा गया था। भक्तों ने अनुरोध किया है कि मंदिर के गर्भगृह को साफ करने के लिए झाड़ू का उपयोग किया जाए। एएनआई द्वारा एक वीडियो शेयर किया है जिसमें श्रद्धालु कांच के बॉक्स में रखे चांदी के झाड़ू को अपने सिर पर लेकर जा रहे हैं। बॉक्स को फूलों से सजाया गया है। 

अयोध्या पहुंच रहे भक्त
उत्तर प्रदेश में अभी ठंड का दौर जारी है। हालांकि, श्रद्धालुओं की संख्या में कोई कमी नहीं आई है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक अगले बुधवार तक उत्तर प्रदेश के बड़े इलाके घने कोहरे से ढके रहेंगे. पश्चिमी मानसून के कारण राज्य में 31 जनवरी से 2 फरवरी तक बारिश होने की भी संभावना है। मंदिर प्रशासन के नए समय के मुताबिक, रामलला की मूर्ति की श्रृंगार आरती सुबह 4:30 बजे शुरू होगी। सुबह 6:30 बजे मंगल प्रार्थना की गई। इसके बाद सुबह 7 बजे से मंदिर भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिया जाता है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड और कोहरे की परवाह किए बिना तीर्थ यात्री सुबह से ही रामलला के दर्शन के लिए कतार में लगे दिखाई देते हैं।

खूब मिल रहा रामलला को उपहार
प्राण प्रतिष्ठा से पहले ही रामलला के लिए उपहारों की बाढ़ आ गई थी। देश के विभिन्न राज्यों और विदेशों से भी उपहार आए। सोने और चांदी के खड़ाऊ से लेकर अष्टधातु की घंटियां, बढ़िया रेशमी कपड़े, घड़ियां, चूड़ियां, जनेऊ आदि रामलला को उपहार मिलते रहे। रामलला को उपहार की लिस्ट में खाने-पीने की चीजें भी शामिल हैं। यहां तक कि कुतुब मीनार की आधी ऊंचाई की अगरबत्ती भी गुजरात से भेजी गई थी। इसके अलावा सूरत के एक ज्वैलर ने 5000 अमेरिकन डायमंड और 2 किलो चांदी से बना एक हार भेजा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें