Ram Rahim Gets 20 Years In Jail For Rape, Cried In Court: 10 Latest Facts - राम रहीम को CBI कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, जानें फैसले से जुड़ी 10 बड़ी बातें 1 DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राम रहीम को CBI कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, जानें फैसले से जुड़ी 10 बड़ी बातें

राम रहीम को CBI कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, जानें फैसले से जुड़ी 10 बड़ी बातें
राम रहीम को CBI कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, जानें फैसले से जुड़ी 10 बड़ी बातें

राम रहीम को सजा सुनाई को समर्थकों ने फिर से हरियाणा सरकार को चुनौती देते हुए सिरसा जिले के गांव फुल्का में दो गाडिय़ों को आग के हवाले कर दिया। फैसले के बाद राम रहीम अब जेल में अन्य कैदियों की तरह रहेंगे। पूरी सुनवाई के दौरान आंखों में आंसू भरे राम रहीम सजा के बाद जमीन पर बैठकर रोने लगे। रिपोर्ट के मुताबिक जब पुलिसकर्मी उन्हें कस्टडी में लेने आए तो वह कहीं नहीं जाने की जिद करने लगे। सीबीआई कोर्ट ने दो साध्वियों के बलात्कार के मामले में 10-10 साल की सजा सुनाई है। अदालत ने अपने फैसले में साफ किया है कि ये सजा एक खत्म होने के बाद दूसरी सजा शुरू होगी। अदालत ने इस मामले में राम रहीम पर 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। कोर्ट ने कहा है कि ये पैसा पीड़िताओं को दिए जाएंगे।

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में डेरा प्रकरण पर न्यायमित्र सीनियर एडवोकेट अनुपम गुप्ता का कहना है कि 10-10 वर्ष की जो दो सजायें सीबीआई की विशेष अदालत ने सुनाई हैं। वह दोनों अलग-अलग दो पीड़िताओं के साथ हुई घटनाओं पर हैं जिससे सजा दोनों की अलग अलग ही चलेगी। यह ऐतिहासिक फैसला है क्योंकि सामान्य तौर पर दोनों सजायें एक साथ चलती हैं।

भारत सरकार के एडीशनल सालीशीटर जनरल सत्यपाल जैन का कहना है कि अदालत ने दोनों मामलों और पीड़िताओं के साथ हुई घटनाओं को सही माना है। दो अलग अलग घटनायें हुईं जिससे दोनों मामलों में 20 साल की सजा और जुर्माना किया गया है। केंद्र सरकार ने इसको तत्काल क्रियान्वयन के लिए राज्य सरकार को निर्देशित भी कर दिया है। मंगलवार को हम इस प्रकरण पर हाईकोर्ट के समक्ष पूरी रिपोर्ट रखेंगे।

फैसले में महात्मा गांधी के कथन का हवाला 
पंचकुला। राम रहीम मामले में निर्णय देते समय कोर्ट ने महात्मा गांधी के कथन का हवाला दिया। राष्ट्रपिता ने औरत को कमजोर कहे जाने को अपमान जनक बताया था, कहा था कि यह पुरुष का महिला के प्रति अन्याय है। यदि क्रूरता को ही ताकत माना जाता है, तो औरत आदमी से कम ताकतवार है। लेकिन यदि ताकत का पैमाना नैतिकता है तो औरत आदमी से ज्यादा ताकतवार है। क्या महिला के पास आंतरिक बोध ज्यादा नहीं, क्या वह स्वयं के बलिदान में आगे नहीं, क्या उसके पास धैर्य नहीं, क्या उसके पास ज्यादा साहस नहीं? औरत के बिना आदमी नहीं होता। यदि अहिंसा हमारे अस्तित्व का कानून है तो भविष्य औरत का है। ह्रदय को प्रभावित करने वाली पैरवी औरत से ज्यादा कौन कर सकता है। 

राम रहीम: अपराधी से अपराधी की तरह पेश आएं, VIP की तरह नहीं- कोर्ट

1) बीती 25 अगस्त को सीबीआई के जज जगदीप सिंह ने राम रहीम को साध्वी यौन उत्पीडऩ मामले में दोषी करार दिया था। डेरा प्रेमियों द्वारा उत्पात मचाए जाने के बाद पैदा हुई स्थिति को देखते हुए हरियाणा सरकार सीबीआई जज जगदीप सिंह को विशेष विमान से लेकर रोहतक पहुंचे। 

2) रोहतक की सुनारियां जेल में चल रहे स्कूल की लाईब्रेरी में अस्थाई कोर्ट रूम बनाया गया था। इस कोर्ट रूम में दोपहर ढाई बजे सजा सुनाए जाने की कार्यवाही शुरू हुई। कार्यवाही के दौरान कोर्ट रूम में दोनों पक्षों के वकीलों तथा जज समेत कुल आठ प्रतिनिधि मौजूद थे। 

3) सीबीआई के वकील एचपीएस वर्मा ने अपने तर्क रखते हुए राम रहीम को अधिक से अधिक सजा दिए जाने मांग की। 

4) सीबीआई के वकील एच.पी.एस. वर्मा ने पूरे घटनाक्रम का संक्षिप्त ब्यौरा पेश करते हुए कहा कि गुरमीत राम रहीम ने लोगों को अपने साथ धार्मिक तौर पर जोडऩे के बावजूद बलात्कार जैसे घिनौने कार्य को अंजाम दिया है। सीबीआई वकील ने कहा कि राम रहीम के इस कृत्य से लोगों का धर्म गुरूओं से भरोसा उठ चुका है। उन्होंने अधिक से अधिक सजा दिए जाने की मांग की। 

VIDEO: कोर्ट में रो पड़े राम रहीम, अपने बचाव के लिए रखी ये पांच दलीलें
5) राम रहीम के वकील एस.के.गर्ग नरवाना ने राम रहीम द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्यों का हवाला देते हुए सजा देते समय नरमी से पेश आने की अपील की। 

6) बचाव पक्ष ने कहा राम रहीम का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं है और इन सभी तर्कों के आधार पर राम रहीम को सजा दिए जाने में नरमी बरतने की अपील करते हुए कम से कम सजा दिए जाने की अपील की।

7) जज ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद राम रहीम के खिलाफ टिप्पणी करते हुए कहा कि आपने दुष्कर्म जैसा घिनौना अपराध करते हुए अपने उस रूतबे का भी ख्याल नहीं किया जिसके माध्यम से लाखों-करोड़ों लोगों की धार्मिक भावनाएं आपके साथ जुड़ी हुई थी। दोनों पक्षों के तर्क पूरे होने के बाद जज ने अपना फैसला पढऩा शुरू किया तो कटघरे में खड़े राम रहीम ने रोना शुरू कर दिया। इसके बावजूद जज ने फैसला पढऩा जारी रखा। 

#RamRahim: इस जज ने सुनाई राम रहीम को सजा, जानें इनके बारे में 5 बातें

8) जज जगदीप सिंह ने करीब दस मिनट में पूरा फैसला पढ़ते हुए गुरमीत राम रहीम को दो साध्वियों के बलात्कार के मामले में दस-दस वर्ष की सजा सुनाई है। अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि एक सजा खत्म होने के बाद दूसरी सजा शुरू होगी। इसका मतलब राम रहीम को 20 साल जेल में रहना होगा।इसके बाद जेल प्रबंधन ने राम रहीम का मेडिकल करवाया और उन्हें जेल की बैरक में भेज दिया। इसी दौरान बचाव पक्ष के वकील एस.के.गर्ग नरवाना ने कहा कि उनके मुवक्किल को सजा सुनाते समय कई पहलूओं की अनदेखी की गई है। उन्होंने कहा कि नियमानुसार इस फैसले को उच्च अदालत में चुनौती दी जाएगी।

9) सीबीआई के जज जगदीप सिंह द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम ने अचानक से पलटी मारी। फैसला सुनाने के बाद जज अदालत परिसर में ही मौजूद थे। राम रहीम ने अपने वकील के माध्यम से गुहार लगाई कि उन्हें यहां घटिया स्तर का खाना दिया जा रहा है। खाना बेहद खराब है। 

10) राम रहीम ने कोर्ट से कहा कि अदालत का फैसला आने के बाद उन्होंने चाय मांगी तो वह भी नहीं मिली। इसके बाद जज ने राम रहीम के वकील को कहा कि उन्हें अन्य कैदियों से हटकर ट्रीटमेंट नहीं दिया जा सकता है। जो अन्य कैदियों को मिलेगा वहीं इन्हें खाना होगा।

जज बोले, राम रहीम को न मिले VIP ट्रीटमेंट,पढ़ें-फैसले की 8 बड़ी बातें

क्या रहा पूरे दिन का घटनाक्रम अगली स्लाइड में जानें

कैसे चला घटनाक्रम
कैसे चला घटनाक्रम

दोपहर 1.15: चंडीगढ़ राजिंद्रा पार्क से जज जगदीप सिंह के हैलीकाप्टर ने उड़ान भरी
दोपहर 2.15: विशेष हैलीकाप्टर रोहतक पहुंचा।
दोपहर 2.20: विशेष हैलीकाप्टर जेल में उतरा
दोपहर 2.25: सीबीआई जज जगदीप सिंह जेल के भीतर पहुंचे
दोपहर 2.35: अदालत की कार्यवाही शुरू
दोपहर 2.39: मुजरिम गुरमीत सिंह को अदालत में लाया गया
दोपहर 2.45: सीबीआई ने अधिकतम सजा की मांग की
दोपहर 2.53: बचाव पक्ष का तर्क,समाज सेवी हैं नरम रूख रखा जाए
दोपहर 3.02:  जज ने आर्डर पढऩा शुरू किया, पहले से लिखकर लाए थे
दोपहर 3.21: वकील कोर्ट रूम से बाहर, बाबा और जज व स्टाफ भीतर
दोपहर 3.22: जज ने फैसले में तत्कालिक टिप्पणी लिखवानी शुरू की।
दोपहर 3.24: सीबीआई ने फैसले से पहले सिरसा में हुई आगजनी की सूचना दी। बाबा के अनुयायी दबाव बना रहे हैं।
दोपहर 3.26: अदालत की कार्यवाही समाप्त,सभी लोग कोर्ट रूम से बाहर।
दोपहर 3.27: बलात्कारी बाबा को दस साल की सजा
दोपहर 3.36: जज ने कोर्ट रूम छोड़ा, बाबा वहीं रोते रहे
दोपहर 3.40: बाबा को जेल स्टाफ जेल की बैरक में ले गया