DA Image
24 अक्तूबर, 2020|4:01|IST

अगली स्टोरी

8 सांसदों के निलंबन के बाद हंगामे की वजह से राज्यसभा दिनभर के लिए स्थगित, उपसभापति के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव भी खारिज

rajya sabha ruckus

राज्यसभा में कृषि बिल पर चर्चा के दौरान रविवार को हंगामा और उपसभापति हरिवंश के साथ अमर्यादित आचरण करने वाले आठ सांसदों को बचे हुए सत्र के लिए सभापति वेंकैया नायडू ने निलंबित कर दिया है। निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव और डोला सेन हैं। इसके साथ ही सभापति ने उपसभापति के खिलाफ विपक्षी सांसदों की तरफ से लाया गया अविश्‍वास प्रस्‍ताव को नियमों के हिसाब से सही नहीं होने का हवाला देते हुए खारिज कर दिया।

सभापति की इस कार्रवाई के बाद भी निलंबित सांसद सदन से नहीं निकले और हंगामा जारी रहा। चार बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा तो राज्यसभा की कार्यवाही कुछ देर बाद ही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई।

इससे पहले सभापति वेंकैया नायडू ने सोमवार को सदन की कार्यवाही के दौरान कहा, "रविवार का दिन राज्‍यसभा के लिए बहुत खराब दिन था। कुछ सदस्‍य सदन के वेल तक आ गए। उपसभापति के साथ धक्‍कामुक्‍की की गई और उनपर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई। सांसदों ने पेपर को फेंका और माइक को तोड़ दिया। रूल बुक को फेंका गया।" उन्होंने कहा कि इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं। नायडू ने कहा कि सदन की कार्यवाही के रिकार्ड के अनुसार उपसभापति ने सदस्यों को अपने स्थानों पर जाने और सदन में हंगामा नहीं करने तथा अपने संशोधन पेश करने के लिए बार- बार कहा था। नायडू के अनुसार, उपसभापति ने यह भी कहा था कि सदस्य अपने स्थानों पर लौट जाएं और उसके बाद वह मतविभाजन कराएंगे।

उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ पेश किया गया प्रस्ताव निर्धारित प्रारूप में नहीं है और इसके लिए जरूरी 14 दिनों के समय का भी पालन नहीं किया गया है। सभापति ने कहा कि कल हंगामे के दौरान सदस्यों का व्यवहार आपत्तिजनक और असंसदीय था। उन्होंने कहा कि कल का दिन राज्यसभा के लिए बहुत खराब दिन था। इस दौरान सदस्यों ने उपसभापति के साथ अमर्यादित आचरण भी किया।

इस दौरान सदन में हंगामा जारी रहा और सरकार ने आठ विपक्षी सदस्यों को मौजूदा सत्र के शेष समय के लिए निलंबित करने का प्रस्ताव पेश किया, जिसे सदन ने ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया। निलंबित किए गए सदस्यों में तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, कांगेस के राजीव साटव, सैयद नजीर हुसैन और रिपुन बोरा, आप के संजय सिंह, माकपा के केके रागेश और इलामारम करीम शामिल हैं।

इस दौरान सदन में हंगामा जारी रहा और सभापति ने नौ बजकर करीब 40 मिनट पर बैठक 10 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। एक बार के स्थगन के बाद 10 बजे बैठक फिर शुरू होने पर सदन में विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा और उपसभापति हरिवंश ने निलंबित किए गए सदस्यों को सदन से बाहर जाने को कहा, लेकिन वे बाहर नहीं गए। हंगामे के बीच ही शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान विधियां (संशोधन) विधेयक, 2020 चर्चा के लिए पेश किया।

सदन में हंगामा थमते नहीं देख उपसभापति हरिवंश ने 10 बजकर करीब पांच मिनट पर बैठक आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी। दो बार के स्थगन के बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और राज्यसभा की कार्यवाही साढ़े दस बजे फिर आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई। तीन बार के स्थगन के बाद बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और राज्यसभा की कार्यवाही 11 बजकर करीब 15 मिनट पर दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। दोपहर 12 बजे बैठक फिर शुरू होने पर भी सदन में विपक्षी सदस्यों का हंगामा जारी रहा तो राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rajya Sabha Chairman M Venkaiah Naidu says Eight members of the House are suspended for a week