DA Image
7 मार्च, 2021|8:32|IST

अगली स्टोरी

राजनाथ सिंह का कांग्रेस पर हमला, बोले- खुलासा किया तो नहीं दिखा पाएंगे चेहरा

defence minister rajnath singh  file pic

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर को होना जा रहे मतदान से ठीक पहले चुनाव प्रचार जोर-शोर से चल रहा है। सभी राजनीतिक दलों की तरफ से विरोधियों पर निशाना साधकर उन पर बिना सिर-पैर के आरोप लगाए जा रहे हैं। इस बीच, चुनाव में चीन और पाकिस्तान के बहाने भी एक दूसरे पर खूब निशाना साधा जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पटना में एक रैली के दौरान कहा कि पुलवामा हमला को पीएम की साजिश बताया गया था। राजनाथ कहा कि अगर उन्होंने खुलासा किया किया तो वे मुंह दिखाने लायक नहीं रह जाएंगे, जिसने सेना के शौर्य पर सवाल उठाया है।

पुलवामा हमला को बताया गया पीएम की साजिश

राजनाथ सिंह ने कहा कि कहा- "ये लोग कैसी राजनीतिक करते हैं? मैं देश का गृह मंत्री था और 40 जवान हमारे शहीद हुए थे पुलवामा में। उसके बाद ये लोग तरह-तरह से प्रचार कर रहे थे कि प्रधानमंत्री ने ही साजिश रची होगी क्योंकि चुनाव आया है, ताकि जनता की सहानुभूति हासिल की जा सके। लेकिन, जिस दिन ऐसी घिनौनी राजनीति करनी होगी, इस राजनीतिक को ठोकर मारकर घर बैठ जाएंगे।"

खुलासा किया तो नहीं दिखा पाएंगे मुंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जनसभा को संबोधित करने के दौरान कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि उसने भारतीय सेना के शौर्य पर सवाल उठाए। रक्षा मंत्री ने कहा- “आज कुछ राजनीतिक पार्टियों के द्वारा, कांग्रेस के द्वारा हमारे सेना के जवानों के शौर्य और पराक्रम पर सवालिया निशान लगाया जा रहा है। कहा जा रहा है कि चीन में 12 सौ स्क्वायर किलोमीटर जमीन हड़प ली। अगर खुलासा मैं कर दूंगा तो चेहरा दिखना मुश्किल हो जाएगा।”

ये भी पढ़ें: युद्ध के लिए उकसा रहा चीन? PLA के 100 जवानों ने दागीं दर्जनों मिसाइलें

उन्होंने अतीत की याद दिलाते हुए कहा- “आप साल 1962 से लेकर 2013 का इतिहास उठाकर देख लीजिए। और मैं रक्षामंत्री होने के नाते यह सीना ठोंककर कहना चाहता हूं कि हमारी सेना के जवानों ने जिस तरह से शौर्य और पराक्रम का परिचय दिया उससे देश का सिर गर्व से ऊंचा उठ गया है।”

गौरतलब है कि चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर 5 मई से ही तनावपूर्ण स्थिति दोनों देशों के बीच बनी हुई है। इसके साथ ही, गलवान हिंसा के बाद भारत और चीन के बीच संबंध करीब चार दशकों में अब तक के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं। दोनों देशों के बीच कई दौर की सैन्य और कूटनीतिक स्तर की वार्ता हुई है। लेकिन, सीमा विवाद पर अभी तक आशातीत सफलता नहीं मिल पाई है, जिसके चलते दोनों देशों की सेना लद्दाख में एक दूसरे के खिलाफ हथियार और गोला-बारूद के साथ खड़ी हैं।

ये भी पढ़ें: जयशंकर बोले- चीन के साथ LAC पर तनाव से शांति और अमन चैन पर पड़ रहा असर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rajnath Singh says Congress is raising questions on the bravery of the army it will be difficult to show face if disclosed