ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशभाजपा ही राहुल गांधी को नेता बनाए रखना चाहती है, ममता बनर्जी का कांग्रेस पर सबसे बड़ा हमला

भाजपा ही राहुल गांधी को नेता बनाए रखना चाहती है, ममता बनर्जी का कांग्रेस पर सबसे बड़ा हमला

इससे पहले टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्याय भी कहा चुके हैं कि राहुल के विपक्ष का चेहरा होने से भाजपा को फायदा होगा। हाल ही में टीएमसी ने सागरदिघी उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवारों के हाथों हार झेली थी।

भाजपा ही राहुल गांधी को नेता बनाए रखना चाहती है, ममता बनर्जी का कांग्रेस पर सबसे बड़ा हमला
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 20 Mar 2023 09:09 AM
ऐप पर पढ़ें

तृणमूल कांग्रेस (TMC) और कांग्रेस पार्टी के बीच तल्ख रिश्ते अब खुलकर सामने आने लगे हैं। खबर है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अब वायनाड सांसद राहुल गांधी पर हमला बोला है। उन्होंने दावा किया है कि राहुल ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सबसे बड़ी 'TRP' हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी राहुल को हीरो बनाना चाहती है। खास बात है कि लंदन में भाषण, अडानी-हिंडनबर्ग समेत कई मुद्दों पर बजट सत्र के दौरान संसद में हंगामा जारी है।

एक मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि टीएमसी की आंतरिक बैठक में सीएम बनर्जी ने राहुल पर कई तीखी टिप्पणियां की हैं। उन्होंने कहा है कि अगर राहुल विपक्ष का चेहरा होते हैं, तो 'कोई भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना नहीं बना सकेगा।' उन्होंने कहा कि भाजपा राहुल को ही नेता बनाए रखना चाहती है।

उन्होंने कहा, 'नहीं तो क्या आपने कभी देखा है कि किसी ने विदेश में कुछ बोला और यहां उसपर इतना हंगामा हुआ हो? हम चाहते हैं कि संसद खुली रहे और अडानी मुद्दे और LIC मुद्दे पर बातचीत हो। लेकिन क्यों अडानी मुद्दे पर बात नहीं हो रही है? क्यों LIC पर बात नहीं हो रही है? क्यों गैस की कीमतों पर चर्चा नहीं हो रही है? इसके बीच यूनिफॉर्म सिविल कोड की कॉपी पेश की गई। हम समान नागरिक संहिता को स्वीकार नहीं करते और उसे लागू नहीं करने देंगे।'

खास बात है कि इससे पहले टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्याय भी कहा चुके हैं कि राहुल के विपक्ष का चेहरा होने से भाजपा को फायदा होगा। हाल ही में टीएमसी ने सागरदिघी उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवारों के हाथों हार झेली थी। इसके अलावा यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस भी बंगाल और पूर्वोत्तर में वोट कटने के चलते टीएमसी से नाराज है।

दोनों के बीच बातचीत की अटकलें
कहा जा रहा था कि टीएमसी और कांग्रेस के बीच बैक चैनल के जरिए बातचीत जारी है। अटकलें थी कि 2024 लोकसभा चुनाव के लिए दोनों दल बड़ा सियासी दांव चल सकते हैं। हालांकि, एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, टीएमसी ने किसी बैक चैनल बातचीत से इनकार किया है। खुद सीएम बनर्जी भी 2024 का चुनाव अकेले लड़ने की बात कह चुकी हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें