DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  माफी मांगते थक जाएंगे राहुल, पर गुनाहों की गिनती नहीं होगी खत्म, इमरजेंसी वाले बयान पर BJP का पलटवार
देश

माफी मांगते थक जाएंगे राहुल, पर गुनाहों की गिनती नहीं होगी खत्म, इमरजेंसी वाले बयान पर BJP का पलटवार

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Madan Tiwari
Wed, 03 Mar 2021 02:42 PM
माफी मांगते थक जाएंगे राहुल, पर गुनाहों की गिनती नहीं होगी खत्म, इमरजेंसी वाले बयान पर BJP का पलटवार

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इमरजेंसी वाले बयान पर बीजेपी ने बुधवार को पलटवार किया है। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि इमरजेंसी पर राहुल गांधी माफी मांगते थक जाएंगे, लेकिन उनके गुनाहों की गिनती खत्म नहीं होगी। उन्होंने पूछा कि क्या यह माफ करने लायक है। इसके अलावा, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि भारत के सामने राहुल समेत पूरे परिवार को देश से माफी मांगनी चाहिए।

केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार रात को दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाई गई इमरजेंसी को गलत बताया था। उन्होंने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाया गया आपातकाल एक 'गलती' थी। उन्होंने कहा कि उस दौरान जो भी हुआ वह गलत था लेकिन वर्तमान समय से बिल्कुल अलग था क्योंकि कांग्रेस ने कभी भी देश के संस्थागत ढांचे पर कब्जा करने का प्रयास नहीं किया।

राहुल के इमरजेंसी वाले बयान पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ''राहुल गांधी माफी मांगते थक जाएंगे, लेकिन उनके गुनाहों की गिनती खत्म नहीं होगी। इमरजेंसी में जिन लोगों ने अपनी जाने गंवाई, जिस तरह से उन्होंने लोकतंत्र की हत्या की..क्या ये माफी करने लायक है? इनकी गुनाहों के गली के हर मोड़ पर इनके गुनाहों के ढेर दिखेंगे।''

वहीं, केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने भी राहुल गांधी पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट किया कि कांग्रेस के गुनाहों और घोटालों की सूची इतनी लंबी है कि राहुल गांधी को पूरे भारत के सामने संपूर्ण परिवार के साथ उन सभी की सूची बनाकर माफी मांगनी चाहिए। सिर्फ इमरजेंसी की क्यों?

US यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम में राहुल ने दिया था बयान
अमेरिका की कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर और भारत के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु के साथ हुई बातचीत में राहुल गांधी ने कहा कि वह कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र के पक्षधर हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी, देश को उसका संविधान दिया और समानता के लिए खड़ी हुई। इमरजेंसी पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ''मुझे लगता है कि वह एक गलती थी। बिलकुल, वह एक गलती थी। और मेरी दादी (इंदिरा गांधी) ने भी ऐसा कहा था।'' इमरजेंसी के अंत में इंदिरा गांधी ने चुनाव की घोषणा की थी इस बाबत प्रणब मुखर्जी ने बसु से कहा था कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उन्हें हारने का डर था।

संबंधित खबरें