DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहुल गांधी ने बनाई कांग्रेस कार्य समिति, युवा और वरिष्ठ नेताओं को दी जगह

Congress president Rahul Gandhi interacts with farmers at “Chaupal pe Charcha” programme in Maharash

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्लूसी) का गठन कर दिया है। नई सीडब्लूसी में अनुभवी और युवाओं नेताओं को जगह दी गई है। वहीं इसमें सुशील शिंदे, दिग्विजय सिंह, आरके धवन जैसे पुराने चेहरे अब नजर नहीं आएंगे। 

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी भी सीडब्लूसी की सदस्य होंगी। इसके साथ कई पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी सीडब्लूसी में जगह दी गई है। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को पार्टी महासचिव नियुक्त किया है। वह असम की जिम्मेदारी संभालेंगे। अभी तक यह प्रभार सीपी जोशी संभाल रहे थे। नई सीडब्लूसी की पहली बैठक 22 जुलाई को बुलाई गई है। पार्लियामेंट एनेक्सी में होने वाली इस बैठक में सभी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और विधायक दल के नेता भी हिस्सा लेंगे।

नई सीडब्लूसी में कुल 51 सदस्य होंगे। इनमें 23 सदस्य, 18 स्थाई सदस्य और दस विशेष आमंत्रित सदस्य बनाए गए हैं। राहुल गांधी ने पहली बार कांग्रेस के मोर्चा संगठन मसलन यूथ कांग्रेस, एनएसयूआई, महिला कांग्रेस, इंटक और सेवा दल के अध्यक्षों को सीडब्लूसी में विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया है। अभी तय यह विस्तारित सीडब्लूसी समिति के सदस्य होते थे। मोर्चा संगठनों के साथ अरुण यादव, जितिन प्रसाद और दीपेंद्र हुड्डा को भी सीडब्लूसी का विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया है।

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, पी चिदंबरम, ज्योतिरादित्य सिंधिया और विभिन्न प्रदेशों का प्रभार संभाल रहे अनुग्रह नारायण सिंह और राजीव सातव जैसे कई युवा नेताओं को सीडब्लूसी का स्थाई सदस्य बनाया गया है। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगई भी सीडब्लूसी के सदस्य बनाए गए हैं। तरुण गोगई के बेटे गौरव गोगई भी सीडब्लूसी के स्थाई आमंत्रित सदस्य हैं। वह पश्चिम बंगाल और अंडमान निकोबार के प्रभार संभाल रहे हैं। कांग्रेस संविधान के मुताबिक सीडब्लूसी में 25 सदस्य होते हैं। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने अभी सिर्फ 23 सदस्यों की घोषणा की है। ऐसे में सीडब्लूसी में दो पद खाली हैं।

कमलनाथ शामिल नहीं
मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को जल्द कांग्रेस महासचिव की जिम्मेदारी से मुक्त किया जा सकता है। उन्हें नई सीडब्लूसी में जगह नहीं मिली है। ऐसे में यह तय है कि जल्द ही हरियाणा की जिम्मेदारी किसी अन्य नेता को सौंपी जा सकती है।

नहीं आएंगे नजर
- दिग्विजय सिंह, मोहन प्रकाश, सुशील कुमार शिंदे, मधुसूदन मिस्त्री, बीके हरिप्रसाद, शकील अहमद, आरके धवन, जनार्दन द्विवेदी और सीपी जोशी आदि कई चेहरे बैठक में नजर नहीं आएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rahul Gandhi constitutes Congress Working Committee with a blend of young and old leaders