अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब:फसलों को बर्बाद करने वाले जंगली पशुओं का किया जा सकेगा शिकार

Nilgai

पंजाब सरकार ने कहा है कि जंगली सूअर और नील गाय जैसे जानवरों के शिकार की अल्पकालिक मंजूरी के लिए अब पंचायत के प्रस्ताव की जरूरत नहीं होगी। पंजाब सरकार के आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि राज्य सरकार ने आवारा पशुओं के आतंक को नियंत्रित करने के लिए कई दूसरे राज्यों की तर्ज पर बैलों के बंध्याकरण को भी मंजूरी दी है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में हुई पंजाब राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक में फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले इन जानवरों के शिकार के लिए 45 दिन के परमिट को मंजूर करने की प्रक्रिया को आसान बनाने का फैसला लिया गया है। 

उन्होंने कहा कि परमिट की प्रक्रिया को ऑनलाइन और वाटसएप प्लेटफॉम पर भी उपलब्ध कराने का फैसला लिया गया है, जिससे मंजूरी की प्रक्रिया को आसान किया जा सके। प्रवक्ता ने कहा, 'सीमित शिकार का यह परमिट निजी स्वामित्व वाली जमीनों और सिर्फ फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले जानवरों के लिए ही होता है।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Punjab Government give relaxation in the laws of mercy killing of wild animals to save corps