ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशपंजाब चुनावः मनी लॉन्ड्रिंग केस में सुखपाल खैरा को मिली जमानत, कांग्रेस के टिकट पर लड़ेंगे चुनाव

पंजाब चुनावः मनी लॉन्ड्रिंग केस में सुखपाल खैरा को मिली जमानत, कांग्रेस के टिकट पर लड़ेंगे चुनाव

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक साल पहले गिरफ्तार हुए पंजाब के पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता सुखपाल सिंह खैरा को आज पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी। सुखपाल सिंह खैहरा को कांग्रेस ने...

पंजाब चुनावः मनी लॉन्ड्रिंग केस में सुखपाल खैरा को मिली जमानत, कांग्रेस के टिकट पर लड़ेंगे चुनाव
Gaurav Kalaएएनआई,नई दिल्लीThu, 27 Jan 2022 05:18 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक साल पहले गिरफ्तार हुए पंजाब के पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता सुखपाल सिंह खैरा को आज पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी। सुखपाल सिंह खैहरा को कांग्रेस ने विधानसभा क्षेत्र भुलत्थ से उम्मीदवार घोषित किया है। 

इसी साल की शुरुआत में कांग्रेस पार्टी ने पंजाब में अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की थी, जिसमें सुखपाल सिंह खैरा को भुलत्थ सीट से उम्मीदवार बनाया गया था। सुखपाल सिंह खैरा ने ऐलान किया था कि अगर उन्हें जमानत नहीं मिली तो वे जेल से चुनावी ताल ठोकेंगे। गुरुवार को पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने उन्हें नियमित जमानत दे दी। 

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता सुखपाल सिंह खैरा को प्रवर्तन निदेशालय ने पिछले साल नवंबर महीने में मनी लॉन्ड्रिंग के केस में गिरफ्तार कर लिया है। सुखपाल सिंह खैरा पिछले साल जून में आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक खैरा को मनी लॉन्ड्रिंग और ड्रग्स तस्करी के केस में अरेस्ट किया गया था।

बताते चलें कि सुखपाल खैरा पुराने कांग्रेसी रहे हैं, लेकिन 2015 में वह आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए थे। जहां वह विधानसभा के लिए चुने गए थे और नेता विपक्ष की भी जिम्मेदारी मिली थी। लेकिन आप की लीडरशिप से मतभेद के चलते उन्हें 2018 में नेता विपक्ष के पद से हटा दिया गया था। इसके बाद 2019 में खैरा ने पार्टी की मेंबरशिप से भी इस्तीफा दे दिया।

उन्होंने इसी साल पंजाब एकता पार्टी के नाम से अलग दल बनाया था, लेकिन 2019 के आम चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा। यहां तक कि बठिंडा सीट से खुद भी हार गए थे। आखिर में 6 साल बाद जून 2021 को उन्होंने एक बार फिर से अपनी पुरानी पार्टी कांग्रेस का दामन थामा था।
 

epaper