ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशPune Road Accident: पुणे सड़क हादसा मामले में पुलिस का बड़ा ऐक्शन, आरोपी नाबालिग का पिता हिरासत में

Pune Road Accident: पुणे सड़क हादसा मामले में पुलिस का बड़ा ऐक्शन, आरोपी नाबालिग का पिता हिरासत में

Pune Porsche Accident: इससे पहले जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड यानी JJB ने इस घटना में शामिल नाबालिग को हादसे पर निबंध लिखने जैसी शर्तों पर जमानत दे दी थी। नाबालिग के पिता को हिरासत में लिया गया है।

Pune Road Accident: पुणे सड़क हादसा मामले में पुलिस का बड़ा ऐक्शन, आरोपी नाबालिग का पिता हिरासत में
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,पुणेTue, 21 May 2024 08:51 AM
ऐप पर पढ़ें

Pune Road Accident Latest Update: पुणे सड़क हादसे में बड़ा ऐक्शन पुलिस ने लिया है। खबर है कि युवक और युवती को रौंदने वाले नाबालिग के पिता को हिरासत में ले लिया गया है। इससे पहले जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड यानी JJB ने इस घटना में शामिल नाबालिग को हादसे पर निबंध लिखने जैसी शर्तों पर जमानत दे दी थी। खास बात है कि पुलिस ने पहले ही इस मामले को वयस्क के तौर पर चलाए जाने के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पुणे पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार ने जानकारी दी है कि आरोपी नाबालिग के पिता विशाल अग्रवाल को मंगलवार सुबह संभाजीनगर से हिरासत में लिया गया है। खबर है कि आरोपी का पिता पुणे शहर का जाना-माना बिल्डर है। हाल ही में उसने एक होटल का निर्माण किया है और एक क्लब भी चलाता है। रविवार देर रात करीब 2.30 बजे हुए हादसे में मध्य प्रदेश के रहने वाले दो इंजीनियर्स की मौत हो गई है।

पेशे से इंजीनियर थे जान गंवाने वाले युवक-युवती
इस हादसे में 24 वर्षीय अनीस अवधिया और 24 साल की ही अश्विनी कोस्टा ने जान गंवा दी है। युवक और युवती मध्य प्रदेश के रहने वाले थे और पुणे में नौकरी करते थे। दोनों पेशे से इंजीनियर थे। FIR के मुताबिक, दोनों जैसे ही कल्याणीनगर जंक्शन पर पहुंचे, तो एक तेज रफ्तार पोर्शे कार ने मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी। इसके बाद दोनों ही सड़क पर गिर गए और मौके पर मौत हो गई।

14-15 घंटे में मिल गई थी जमानत
यह हादसा रविवार देर रात हुआ था। इसके बाद खबरें थीं कि आरोपी नाबालिग को महज 14-15 घंटों के अंदर ही जमानत मिल गई थी। इतना ही नहीं जेजेबी ने जमानत की शर्तों में हादसे पर 300 शब्दों का निबंध लिखने, येरवाड़ा पुलिस के साथ मिलकर 15 दिन काम करने, शराब की लत छुड़ाने के लिए डॉक्टर से मिलने जैसी शर्तें रखी थीं।