PULWAMA TERROR ATTACK From Pampore to Pulwama fortress of terrorists has been rooted for many years - PULWAMA TERROR ATTACK: पम्पोर से पुलवामा तक आतंकियों का गढ़, कई साल से जमा रहे जड़ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PULWAMA TERROR ATTACK: पम्पोर से पुलवामा तक आतंकियों का गढ़, कई साल से जमा रहे जड़

The biggest attack in Kashmir till now

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पम्पोर से पुलवामा तक का 20 से 25 किलोमीटर का इलाका आतंकियों का सबसे बड़ा गढ़ बन गया है। इस इलाके में आतंकी यहां कई वर्षों से अपनी जड़े जमा चुके हैं। एनआईए के सूत्रों के मुताबिक, इस क्षेत्र में जैश ए मोहम्मद के कई बड़े आतंकवादी छिपे हैं। 

मास्टरमाइंड गाजी और कामरान की तलाश तेज

सुरक्षा बल पम्पोर से पुलवामा के बीच मौजूद इन गांवो में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू कर चुके हैं। सुरक्षा बलों को पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड राशिद गाजी और कामरान की तलाश है। माना जाता है कि राशिद गाजी ने ही इस हमले में फिदायीन बने आदिल डार को विस्फोटक लगाने और उसे विस्फोट करने का प्रशिक्षण दिया था। 

आईईडी विशेषज्ञ है राशिद गाजी

अफगानिस्तान में मजुाहिद्दीन रहा राशिद गाजी आईईडी का विशेषज्ञ माना जाता है। खुफिया एजेंसियों की मानें तो 11 फरवरी को पुलवामा के रत्नीपुरा गांव में सेना के साथ मुठभेड़ में राशिद गाजी बचकर भाग निकला था। इस मुठभेड़ में एक स्थानीय आतंकी मारा गया था जबकि तीन आतंकी जान बचाकर भागे थे।

25 किलोमीटर के दायरे में पांच साल में 10 हमले 

इस इलाके को चिन्हित करने के लिए सेना और सुरक्षा एजेंसियों ने सुरक्षा बलों और रोड ओपनिंग पार्टी पर हुए पुराने हमलों को ध्यान में रखा है। इन हमलों को मैप पर डाला गया तो पता चला है कि 2013 से 2018 के बीच 20 से 25 किलोमीटर के इसी दायरे में कुल 10 हमले हुए हैं। 

1. 11 दिसंबर 2013 : नवगाम : रोड ओपनिंग पार्टी पर हमला 

एक सीआरपीएफ जवान शहीद
एक जवान घायल
एक 9एमएम की कार्बाइन छीनी

2. 3 दिसंबर 2014 : पुलवामा :  रोड ओपनिंग पार्टी पर हमला

एक सीआरपीएफ जवान शहीद
एक जवान घायल

3. 11 मई 2015 : बेजबियरा : रोड ओपनिंग पार्टी पर हमला 

दो सीआरपीएफ जवान शहीद
एक एके-47 राइफल छीनी

4. 5 अगस्त 2015 : बीएसएफ काफिले पर हमला

दो जवान शहीद
14 घायल

5. 7 दिसंबर 2015 : पम्पोर : सीआरपीएफ काफिले पर हमला

पांच जवान घायल

6. 20 फरवरी 2016 : पम्पोर : सीआरपीएफ काफिल पर हमला

दो जवान शहीद
आठ घायल 

7. 13 मार्च 2016 : कुद में मुठभेड़

एक आतंकी मारा गया
एक नागरिक की भी मौत
दो नागरिक घायल

8. 3 जून 2016 : बेजबियरा : बीएसएफ काफिले पर हमला

तीन जवान शहीद
सात घायल

9. 25 जून 2016 : पम्पोर : सीआरपीएफ के काफिले पर हमला

8 जवान शहीद
22 जवान घायल

10. 10 जुलाई 2017 : बेजबियरा : यात्री काफिले पर हमला

सात नागरिकों की मौत
19 नागरिक घायल

संदिग्ध कॉल डिटेल को भी खंगाला जा रहा

क्षेत्र में आतंकियों की रहने की जानकारी मिलने के बाद एनआईए पुलवामा से पम्पोर के बीच मौजूद 20 से 25 किलोमीटर के मोबाइल टॉवर से इलाके में किए गए संदिग्ध कॉल की डिटेल भी खंगाल रही है। एनआईए की टीम अब पम्पोर से पुलवामा के बीच सेना के काफिले पर हुए 10 हमलों के तरीके को जांच रही है। ताकि इन हमलों के तार आपस में जोड़े जा सकें। 

टेलीग्राम मैसेज को पढ़ने की कोशिश जारी

सूत्रों के हवाले से खबर है कि एनआईए पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले के दो दिन पहले से घाटी के सभी टेलीग्राम मैसेज, इंटरनेट कॉल डिटेल खंगाल रही है। सूत्र बताते हैं कि एनआईए जैश-ए-मोहम्मद के टेलीग्राम चैनल अंसार-ए-जैश के सभी वीडियो और ऑडियो मैसेज का भी डिटेल निकाल कर उसमें छुपे संदेशों को पढ़ने की कोशिश कर रही है।

PULWAMA TERROR ATTACK:यहां देखें हमले में शहीद हुए जवानों के नाम व पते

पुलवामा के हमलावर आतंकी को PAK मीडिया ने बताया फ्रीडम फाइटर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PULWAMA TERROR ATTACK From Pampore to Pulwama fortress of terrorists has been rooted for many years