DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Pulwama Attack: एयरक्राफ्ट कैरियर और न्यूक्लियर सबमरीन से पाक को जवाब देने के लिए तैयार थी नौसेना

Pulwama Terror Attack

Indian Navy on Pulwama attack: पुलवामा हमले के कारण पाकिस्तान के साथ तनाव बढ़ने के बाद वायु सेना और थल सेना के साथ-साथ भारतीय नौसेना भी किसी भी स्थिति का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार थी। न्यूज एजेंसी वार्ता के अनुसार, नौसेना ने एयरक्राफ्ट कैरियर और परमाणु पनडुब्बी सहित अपने युद्ध बेड़े के 60 युद्धपोतों को उत्तरी अरब सागर के मोर्चो पर तैनात कर दिया था। 

नौसेना के अनुसार, अरब सागर में उसकी भारी भरकम तैनाती और समूचे क्षेत्र पर कड़ी निगरानी के कारण पाकिस्तानी नौसेना की गतिविधियां अरब सागर से लगे मकराना के छोटे से तटीय क्षेत्र तक ही सिमट कर रह गई थी और उनके युद्धपोत तथा अन्य प्लेटफॉर्म अरब सागर में खुले तौर पर आने का साहस नहीं जुटा पा रहे थे। 

बालाकोट पर सवाल उठा विपक्ष ने अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारी : जेटली

दरअसल, गत 14 फरवरी को जब पुलवामा में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के काफिले पर आतंकवादी हमला हुआ उस समय नौसेना एक बड़े युद्धभ्यास ट्रोपेक्स-19 में जुटी थी जिसमें उसके युद्धक बेड़े के तमाम युद्धपोत हिस्सा ले रहे थे। यह अभ्यास 7 जनवरी को शुरू हुआ था और 10 मार्च तक चलना था। लेकिन, दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर नौसेना ने तुरंत अपने इस युद्धक बेड़े का रुख उत्तरी अरब सागर की ओर कर दिया। 

विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य, परमाणु पनडुब्बियों, युद्धपोतों तथा विमानों को ऑपरेशन मोड में तैनात किया गया जिससे समुद्री क्षेत्र में पाकिस्तान की नापाक हरकतों पर नजर रखी जा सके और उसका करारा जवाब दिया जा सके। 
गत 28 फरवरी को तीनों सेनाओं के संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में भी नौसेना ने अपना सख्त रुख को स्पष्ट करते हुए कड़ा संदेश दिया था कि वह समुद्री क्षेत्र में किसी भी तरह के दुस्साहस का जोरदार जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है। उस समय नौसेना का विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य अपने लड़ाकू बेडे, परमाणु पनडुब्बियां, 60 युद्धपोतों, तटरक्षक बल के 12 जलपोतों और विमानों के साथ उतरी अरब सागर में मोर्चे पर तैनात था। 

चीन ने मसूद अजहर को बचाया, UN सदस्यों ने कहा-उठा सकते हैं 'दूसरा कदम'

नौसेना ने वायु सेना और थल सेना के साथ भी पूरा तालमेल बना रखा था। इसे देखते हुए पाकिस्तानी नौसेना ने अपनी गतिविधियों को मकराना के तटीय क्षेत्र तक ही सीमित रखने में भलाई समझी और उसका कोई भी प्लेटफॉर्म अरब सागर में खुले में विचरण करने का साहस नहीं जुटा सका।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pulwama attack: Aircraft carrier and nuclear submarine ready to answer Pak: Navy