DA Image
10 जुलाई, 2020|7:06|IST

अगली स्टोरी

Cyclone Nisarga: चक्रवात निसर्ग को लेकर तैयारी तेज, मुंबई में आधी रात लगाई गई धारा 144

 cyclone nisarga  how the cyclonic storm is named set to hit maharashtra and gujarat  ap

मुंबई पुलिस ने बुधवार को चक्रवात निसर्ग के खतरे को देखते हुए, मध्यरात्रि से गुरुवार दोपहर तक पूरे शहर में धारा 144 लागू कर दी और समुद्र तट, पार्कों और सैर-सपाटे जैसी जगहों पर लोगों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया। बयान में कहा गया है कि चक्रवात के कारण 25 जाने वाली और 25 आने वाली फ्लाइट के बजाय बुधवार के लिए 8 आने और 11 जाने वाली उड़ाने ही चलेंगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने मंगलवार को कहा कि पूर्व-मध्य अरब सागर चक्रवात निसर्ग मंगलवार दोपहर में तेज हो गया है। 3 जून को रायगढ़ जिले के अलीबाग से 100 से 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज़ हवा के साथ चक्रवाती तूफान के रूप में भूस्खलन की आशंका है। 

यह मुंबई में मध्य-सप्ताह की भारी बारिश के बाद रविवार को एक चेतावनी के रूप में शुरू हुआ और सोमवार तक, कई तटीय जिलों के लिए तेजी से रेड अलर्ट के रूप में विकसित हुआ, क्योंकि अरब सागर पर गहरा अवसाद बढ़ गया था। मंगलवार दोपहर तक, चक्रवात निसर्ग गोवा के 280 किमी पश्चिम-दक्षिण पश्चिम, मुंबई के 490 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और सूरत के 710 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में था। आईएमडी ने कहा कि चक्रवात बुधवार दोपहर को रायगढ़ में दमन और हरिहरेश्वर के बीच उत्तर महाराष्ट्र और आसपास के दक्षिणी तट को पार करने की संभावना है।

कोंकण के सिंधुदुर्ग और रत्नागिरि से लेकर सौराष्ट्र के भावनगर और गुजरात के सूरत और बारुच सहित अन्य जिलों में पश्चिमी तट रेखा को 55-65 किमी प्रति घंटे  से हवा की चेतावनी मिली है और पालघर के चार महाराष्ट्र जिलों में 115-120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है। पालघर, मुंबई, ठाणे और रायगढ़  जिलों में उच्च हवा की गति इस बात का संकेत देती है कि चक्रवात का अधिकतम प्रभाव होने की संभावना है।

इस तूफान से पालघर और रायगढ़ स्थित केमिकल और परमाणु संयत्र पर भी खतरा उत्पन्न हो गया है। इनकी सुरक्षा के लिए सावधानियां बरती जा रही हैं। पालघर में देश का सबसे पुराना तारापुर एटॉमिक पॉवर प्लांट है। वहीं, गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों से 40 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। महाराष्ट्र में लोगों को तटीय इलाकों में जाने से रोका गया है।

साइक्लोन निसर्ग की वजह से महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की 20 टीमों को तैनात किया गया। मुंबई में आठ टीमें, रायगढ़ में पांच टीमें, पालघर में दो, ठाणे में दो, रत्नागिरी में दो और सिंधुदुर्ग में एक टीम को तैनात किया गया है। भारत के मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि अरब सागर के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र और गहरा हो गया है। चक्रवात निसर्ग के बुधवार को देर शाम तक उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात तटों तक पहुंचने का अनुमान है। हालांकि, अम्फान के मुकाबले निसर्ग थोड़ा कमजोर है, लेकिन आपदा प्रबंधन दल इसके लिए भी कमर कस चुके हैं। एनडीआरएफ के दल दोनों राज्यों में तटीय इलाकों से लोगों को निकालने का काम कर रहे हैं। वे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और जागरूक करने का काम कर रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Preparations on cyclone nature intensified Section 144 imposed in Mumbai at midnight