ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकांग्रेस आलाकमान को नहीं पसंद कि कोई अपना दिमाग चलाए, खुलकर बोलीं प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा

कांग्रेस आलाकमान को नहीं पसंद कि कोई अपना दिमाग चलाए, खुलकर बोलीं प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा

शर्मिष्ठा लंबे समय से सक्रिय राजनीति से दूर हैं। अब वह कांग्रेस से हुए मोहभंग पर भी खुलकर बात कर रही हैं। उन्होंने कहा, 'मुझे पता लगा कि शीर्ष नेतृत्व को यह नहीं पसंद कि उनपर कोई जोर डाले।

कांग्रेस आलाकमान को नहीं पसंद कि कोई अपना दिमाग चलाए, खुलकर बोलीं प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 07 Dec 2023 12:29 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा ने हलिया किताब 'Pranab, My Father: A Daughter Remembers' में कांग्रेस से जुड़े कई अनुभवों के साझा किया है। इसके अलावा भी वह पार्टी को लेकर खुलकर अपनी राय रखती रही हैं। एक साक्षात्कार के दौरान उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व को अपने विचार रखने वाले लोग पसंद नही है।

खास बात है कि शर्मिष्ठा लंबे समय से सक्रिय राजनीति से दूर हैं। अब वह कांग्रेस से हुए मोहभंग पर भी खुलकर बात कर रही हैं। न्यूज18 से बातचीत में उन्होंने कहा, 'विचाराधारा पर बात करें, तो मुझे कांग्रेस में भरोसा है। मैं धर्मनिरपेक्षता और उदारवाद के साथ हूं, लेकिन अब इसकी स्थिति देखिए। ये वह सब कर रहे हैं, जिसका आरोप ये भाजपा पर लगाते थे।'

उन्होंने कहा, 'मुझे पता लगा कि शीर्ष नेतृत्व को यह नहीं पसंद कि उनपर कोई जोर डाले। वह ऐसे किसी व्यक्ति को भी सहन नहीं करते थे, जिसकी अपनी खुद की कोई सोच हो। वे उदारवादी होने का दावा करते हैं, लेकिन वे खुद और उनके समर्थक इतनी असहीष्णुता क्यों दिखाते हैं।'

पीएम मोदी छूते थे प्रणब मुखर्जी के पैर
किताब में शर्मिष्ठा ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके पिता प्रणब मुखर्जी के पैर छूते थे। उन्होंने लिखा, 'जब वह पहली बार प्रधानमंत्री बने, तब मेरे पिता ने उन्हें कहा था कि वह उन्हें संविधान पर सलाह देंगे, लेकिन उन्हें राजनीति में नहीं घसीटा जाना चाहिए।' मुखर्जी ने भारत के वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया। वह विदेश, रक्षा, वित्त और वाणिज्य मंत्री बने। वह भारत के 13वें राष्ट्रपति (2012 से 2017) थे। प्रणब मुखर्जी का 31 अगस्त, 2020 को 84 वर्ष की आयु में निधन हो गया था।

प्रणब मुखर्जी ने सोनिया गांधी को लेकर क्या कहा था?
'द पीएम इंडिया नेवर हैड' शीर्षक वाले अध्याय में शर्मिष्ठा यह भी लिखती हैं, 'प्रधानमंत्री पद की दौड़ से हटने के सोनिया गांधी के फैसले के बाद, मीडिया और राजनीतिक हलकों में तेज अटकलें थीं। इस पद के लिए प्रबल दावेदारों के रूप में डॉ. मनमोहन सिंह और प्रणब के नामों पर चर्चा हो रही थी।'

उनका कहना है, 'मुझे कुछ दिनों तक बाबा (प्रणब मुखर्जी) से मिलने का मौका नहीं मिला, क्योंकि वह बहुत व्यस्त थे, लेकिन मैंने उनसे फोन पर बात की। मैंने उनसे उत्साहित होकर पूछा कि क्या वह प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। उनका दो टूक जवाब था, 'नहीं, वह मुझे प्रधानमंत्री नहीं बनाएंगी।' प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह होंगे।'

(एजेंसी इनपुट के साथ)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें