ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के बाद PFI संगठन को किया गया भंग, केंद्र के फैसले को स्वीकारा

सरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के बाद PFI संगठन को किया गया भंग, केंद्र के फैसले को स्वीकारा

सोलह साल पुराने संगठन पीएफआई के खिलाफ मंगलवार को सात राज्यों में छापेमारी के बाद 150 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया या गिरफ्तार किया गया। एजेंसी ने पांच दिन पहले भी छापेमारी की थी।

सरकार की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के बाद PFI संगठन को किया गया भंग, केंद्र के फैसले को स्वीकारा
Ashutosh Rayलाइव हिन्दुस्तान,कोल्लमWed, 28 Sep 2022 06:45 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

केरल में अच्छा खासा प्रभाव रखने वाले, प्रतिबंधित इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) को भंग कर दिया गया है। बुधवार को पीएफआई के एक सीनियर नेता ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से संगठन को अवैध करार दिए जाने के मद्देनजर अब इसे भंग कर दिया गया है। सरकार ने कथित रूप से आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता और आईएसआईएस जैसे आतंकवादी संगठनों से 'संबंध' होने के कारण पीएफआई व उससे संबद्ध कई अन्य संगठनों पर कड़े आतंकवाद रोधी कानून के तहत पांच साल का प्रतिबंध लगा दिया है।

पीएफआई के प्रदेश महासचिव अब्दुल सत्तार ने संगठन की केरल इकाई के फेसबुक पेज पर पोस्ट साझा की है कि 'देश के कानून का पालन करते हुए संगठन गृह मंत्रालय का फैसला स्वीकार करता है।' यह पोस्ट करने के कुछ ही घंटे बाद सत्तार को करुणागपल्ली से पकड़ लिया गया। सत्तार ने पोस्ट में यह भी कहा कि सभी सदस्य और आम लोगों को बता दिया गया है कि गृह मंत्रालय द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बाद पीएफआई को भंग कर दिया गया है।'

MP: रामनवमी दंगे के बाद PFI ने वसूला था 55 लाख का चंदा, पुलिस ने कहा- PFI इंदौर दफ्तर पर बढ़ाई गई सुरक्षा

छापेमारी के बाद किया था हड़ताल का ऐलान

सत्तार ने 23 सितंबर को देशभर में पीएफआई के कार्यालयों पर हुई छापेमारी और नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में कथित तौर पर राज्यव्यापी हड़ताल का आह्वान किया था, जिसके बाद से वह फरार था। आज उसे राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) को सौंपा जा सकता है। पीएफआई के कार्यकर्ताओं ने 23 सितंबर की हड़ताल के दौरान कथित तौर पर व्यापक हिंसा की थी, जिसके परिणामस्वरूप बसों, सार्वजनिक संपत्ति और यहां तक कि आम लोगों पर हमले भी हुए थे।

केरल से हुई थी सबसे अधिक गिरफ्तारी

एनआईए के नेतृत्व में विभिन्न एजेंसियों की टीमों ने पिछले हफ्ते 15 राज्यों में 93 स्थानों पर छापे मारे थे और देश में आतंकवादी गतिविधियों का समर्थन करने के आरोप में पीएफआई के 100 से अधिक नेताओं को गिरफ्तार किया था। सबसे अधिक 22 लोगों की गिरफ्तारी केरल से हुई थी, जहां कुछ स्थानों पर पीएफआई का काफी प्रभाव है। ये गिरफ्तारियां एनआईए, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और संबंधित राज्यों की पुलिस ने की थीं।

epaper