poorva express derail accident in kanpur 15 coaches derailed - Poorva express accident: कानपुर में देर रात बड़ा ट्रेन हादसा, पूर्वा एक्सप्रेस के 15 डिब्बे पटरी से उतरे; 100 घायल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Poorva express accident: कानपुर में देर रात बड़ा ट्रेन हादसा, पूर्वा एक्सप्रेस के 15 डिब्बे पटरी से उतरे; 100 घायल

                                                                                                                                            15                                                      100               ani

Poorva Express Derail: यूपी के कानपुर के रूमा में शुक्रवार देर रात बड़ा ट्रेन हादसा हो गया। रात तकरीबन 12.51 बजे हावड़ा से नई दिल्ली जा रही पूर्वा एक्सप्रेस दो हिस्सों में बंट गई। इस दौरान 15 डिब्बे पटरी से उतर गए। इनमें 4 डिब्बे पलट गए। एसी कोच बी-3 पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। कोचों में सवार यात्री अचानक हुए हादसे से सकते में आ गए। हादसे में किसी की मौत की खबर नहीं है। लगभग 100 लोग घायल हुए हैं। रेलवे ने आनन-फानन राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया। हादसे के बाद से आप और डाउन लाइन पर रेल आवागमन ठप हो गया है। 

घायल यात्रियों का प्राथमिक इलाज कराया गया। कुछ को इलाज के लिए पासे के ही अस्पतालों में भिजवाया गया। कानपुर के अलावा इलाहाबाद से दुर्घटना राहत ट्रेन और वरिष्ठ डॉक्टरों की टीम मौके पर रवाना कर दी गई। इधर, जानकारी मिलते ही शहर पुलिस अलर्ट हो गई। एसपी ग्रामीण कई थानों की फोर्स के साथ हादसा स्थल पर पहुंच गए। कई एंबुलेंस भिजवाई गईं। वहीं, घायल यात्रियों को बेहतर चिकित्सा मुहैया कराने के लिए हैलट में भी चाक-चौबंद व्यवस्थाएं कर दी गईं। स्ट्रेचर के वार्ड ब्वॉय तैनात कर दिए गए।   

दिल्ली-हावड़ा रूट पर ट्रेन परिचालन ठप

हादसे के चलते कानपुर में हमसफर और शिव गंगा समेत तीन ट्रेनें खड़ी रहीं। इसके अलावा इलाहाबद जोन में करीब 32 ट्रेनें जहां की तहां रोक दी गई हैं। शनिवार दोपहर 12 बजे तक रेल संचालन बहाल होने की उम्मीद है। घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए गए हैं। साथ ही रेलवे ने कानपुर और इलाहाबाद के लिए 1072 हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिया है।

हादसे के समय 127 किमी की स्पीड से दौड़ रही थी ट्रेन

दुर्घटनाग्रस्त पूर्वा एक्सप्रेस के  ड्राइवर फूल सिंह ने बताया कि ट्रेन की अधिकतम रफ्तार 130 किलोमीटर प्रति घंटे है और हादसे के समय ट्रेन लगभग 127 की स्पीड से दौड़ रही थी। हादसे के समय कुछ जर्क तो लगा लेकिन हादसे का अंदाजा नहीं था। गार्ड ने वाकीटाकी से सूचित कि ट्रेन डिरेल हो गई है तब इमरजेंसी ब्रेक लगाई गई। इसके बाद साथी पायलट के साथ नीचे उतरकर देखा तो भयावह मंजर देख रूह कांप गई। भगवान का शुक्र है कि कोई जनहानि नहीं हुई है।

क्या होता है एलबीएच कोच आप भी जानें

रेल यात्रा सुरक्षा मानकों को बेहतर बनाने के लिए भारतीय रेलवे लिंके होफमान बुश (LHB) डिजाइन कोच का उपयोग करने और पुराने आईसीएफ डिजाइन कोच के उत्पादन को रोकने का फैसला किया है। एलएचबी डिजाइन कोच वजन में हल्का है. इतना ही नहीं, एलएचबी कोच के पास बेहतर ढुलाई के साथ-साथ हाई स्पीड क्षमता भी है। भारतीय रेलवे का कहना है कि इन सुविधाओं के अलावा, एलएचबी डिजाइन कोच ने बेहतर सुरक्षा सुविधाओं में बढ़ोतरी की है। एलएचबी कोच में एंटी-क्लाइम्बिंग जैसी विशेषताएं होती हैं। ताकि टकराव की स्थिति में कोच एक-दूसरे पर न चढ़ सके।

अब सिर्फ बनाए जाएंगे एलबीएच कोच

रेल मंत्रालय ने यात्रियों को सुरक्षित और अधिक आरामदायक यात्रा प्रदान करने के लिए भारतीय रेलवे ने एलएचबी कोच के साथ मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों के पारंपरिक आईसीएफ डिजाइन कोच को चरणबद्ध तरीके से बदलने का फैसला किया है। साथ ही यह निर्णय लिया गया था कि अप्रैल 2018 से उत्पादन इकाइयों द्वारा सिर्फ एलएचबी कोच बनाए जाएंगे।भारतीय रेलवे का कहना है कि दुर्घटनाओं को रोकने और सुरक्षा बढ़ाने के लिए सभी संभावित कदम उठाए जा रहे हैं। जैसे कि ट्रैक, रोलिंग स्टॉक, इंटरलॉकिंग सिस्टम और सिग्नलिंग के बेहतरी और रखरखाव के लिए उपयुक्त टेक्नोलॉजी को अपनाने, सुरक्षा ड्राइव, सुरक्षा निरीक्षण, अधिकारियों को प्रशिक्षण, सुरक्षित प्रथाओं के पालन के लिए कर्मचारियों को शिक्षित करना आदि।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:poorva express derail accident in kanpur 15 coaches derailed