DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली- NCR में प्रदूषण से राहत नहीं, एक-दो दिन में कोहरे की मार से होगी बढ़ोतरी

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अगले एक-दो दिन में कोहरा बढ़ेगा जिससे प्रदूषण कण वायुमंडल से बाहर नहीं निकल पाएंगे और हवा जहरीली होगी।

diwali celebrated across delhi-ncr with firecrackers air quality turns very poor

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण (Pollution in Delhi NCR) से राहत के आसार नहीं दिख रहे हैं। मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक अगले एक-दो दिन में कोहरा बढ़ेगा जिससे प्रदूषण कण वायुमंडल से बाहर नहीं निकल पाएंगे और हवा जहरीली होगी। शनिवार को भी राजधानी के ज्यादातर हिस्सों में हवा की गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में रही। 

साढ़े तीन गुना प्रदूषण

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक शनिवार को शाम पांच बजे हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 का स्तर 356.5 और पीएम 2.5 का स्तर 211.3 रिकार्ड किया गया। मानकों के अनुसार पीएम 10 का स्तर 100 से नीचे और पीएम 2.5 का स्तर 60 से नीचे रहना चाहिए। इसके अनुसार दिल्ली की हवा में प्रदूषक कणों की मात्रा साढ़े तीन गुना तक ज्यादा है। ये कण इतने सूक्ष्म होते हैं कि सांस के जरिए हमारे फेफड़ों में पहुंच जाते हैं और बीमार कर देते हैं।

ये भी पढ़ें: साल 2017 में प्रदूषण के चलते भारत में करीब 12.4 लाख लोगों ने जान गंवाई

मथुरा रोड की हवा सबसे जहरीली: मथुरा रोड इलाके में शनिवार को सबसे ज्यादा प्रदूषित रहा। वाहनों से निकलने वाले धुएं को इसके लिए जिम्मेदार माना जा रहा है। मथुरा रोड पर वायु गुणवत्ता सूचकांक गंभीर स्तर पर रहा। यहां का वायु गुणवत्ता सूचकांक 451 रहा। जबकि, दिल्ली में जहांगीरपुरी का 407 और नेहरू नगर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 401 रहा। इन इलाकों की हवा भी गंभीर श्रेणी में बनी हुई है। मौसम विभाग का अनुमान है कि मंगलवार को हल्की बारिश होगी, जिससे कुछ हद तक राहत मिल सकती है। 

ये भी पढ़ें: 

राजधानी में शनिवार को मौसम की सबसे सर्द सुबह

दिल्ली में शनिवार की सुबह सबसे सर्द रही। मौसम विभाग के सफदरजंग केन्द्र में न्यूनतम तापमान 7.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। यह इस मौसम में सबसे कम तापमान है। कोहरा बढ़ने से तापमान में और गिरावट आने के आसार हैं।

प्रदूषक कणों का जमाव

हवा में प्रदूषक कणों के छितराव की गति वेंटीलेशन इंडेक्स से नापी जाती है। शनिवार को वेंटीलेशन इंडेक्स 4000 वर्ग मीटर प्रति सेकंड रहा। 6000 से कम होने का मतलब है कि प्रदूषक कणों का छितराव धीमी गति से हो रहा है और वे जमे हुए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:pollution will increase in delhi ncr in upcoming one two days due to fog