Political conditions may change in Maharashtra for CM Post these can be new equations - CM की कुर्सी के लिए महाराष्ट्र में बदल सकते हैं राजनीतिक हालात, ये हो सकते है नए समीकरण DA Image
12 नबम्बर, 2019|6:04|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

CM की कुर्सी के लिए महाराष्ट्र में बदल सकते हैं राजनीतिक हालात, ये हो सकते है नए समीकरण

the bjp   s surprise announcement capped hectic political activity during the day  which saw the party

महाराष्ट्र में बीजेपी द्वारा सरकार बनाने से आधिकारिक तौर पर इंकार किए जाने के बाद राज्य में एक नया राजनीतिक हालात यह पैदा हो रहा है, जहां कांग्रेस के समर्थन से शिवसेना-एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) की सरकार बनने की एक संभावना बन सकती है। जयपुर में कांग्रेस विधायकों की बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कोई भी निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया। सूत्रों ने कहा है कि अधिकांश विधायक सेना के नेतृत्व वाली सरकार को शर्तों के साथ समर्थन देने के पक्ष में हैं। पार्टी के राज्य प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे राजनीतिक हालात के बारे में सोनिया गांधी को जल्द ही अवगत कराएंगे। 

महाराष्ट्र के एक पूर्व मुख्यमंत्री के करीबी एक कांग्रेस सूत्र ने कहा, “एक संभावित परिदृश्य में सेना-एनसीपी की सरकार कांग्रेस के समर्थन से बन सकती है, जिसमें विधानसभा अध्यक्ष का पद राकांपा के पास हो सकता है।” कांग्रेस की रणनीति शरद पवार के परामर्श पर निर्भर होगी, जो मंगलवार को राकांपा विधायकों की बैठक के बाद सोनिया गांधी से मिलने वाले हैं। 

शिवसेना नेता आज कर सकते हैं पवार से मुलाकात, सरकार पर समर्थन की मांग

कांग्रेस सूत्रों ने यहां कहा कि पार्टी शिवसेना से बातचीत पर तभी विचार करेगी, जब वह भाजपा नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग हो जाएगी और केंद्रीय कैबिनेट में उसके एक मंत्री अरविंद सावंत इस्तीफा दे देंगे। कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, “कांग्रेस को राज्य में उपलब्ध सभी विकल्पों पर विचार करना चाहिए।”

शिवसेना ने एक तरह के सुलह और संवाद का रास्ता साफ करने के लिए अपने मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा है कि कांग्रेस राज्य की दुश्मन नहीं है। इस बीच, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने विधायकों से मुलाकात की और राजनीतिक हालात पर चचार् की। विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा गया है।

अब सारी नजरें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार पर है, जो मंगलवार को अपने विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं। राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा, “हम उसी दिन इस मामले पर विचार करेंगे।” मलिक ने कहा, “यदि भाजपा-शिवसेना सरकार बनाते हैं तो हम विपक्ष में बैठेंगे। अन्यथा हम एक वैकल्पिक सरकार की संभावना तलाशेंगे।”

वरिष्ठ कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने रविवार को ट्वीट किया, “महाराष्ट्र के राज्यपाल को चाहिए कि अब दूसरे सबसे बड़े गठबंधन राकांपा-कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करे, क्योंकि भाजपा-शिवसेना ने सरकार गठन से इंकार कर दिया है।” नवनिर्वाचित महाराष्ट्र विधानसभा में 105 विधायकों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है। जबकि शिवसेना के पास 56, राकांपा के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Political conditions may change in Maharashtra for CM Post these can be new equations