ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशजस्टिन ट्रूडो ने भेजी तीसरे कार्यकाल की बधाई तो पीएम नरेंद्र मोदी से मिल गया नसीहत वाला जवाब

जस्टिन ट्रूडो ने भेजी तीसरे कार्यकाल की बधाई तो पीएम नरेंद्र मोदी से मिल गया नसीहत वाला जवाब

कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी पीएम मोदी को तीसरे कार्यकाल के लिए बधाई दी है। वहीं इसका जवाब देते हुए पीएम मोदी ने संकेतों में ही कनाडा के प्रधानमंत्री को खालिस्तान पर नसीहत भी दे डाली।

जस्टिन ट्रूडो ने भेजी तीसरे कार्यकाल की बधाई तो पीएम नरेंद्र मोदी से मिल गया नसीहत वाला जवाब
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 10 Jun 2024 01:27 PM
ऐप पर पढ़ें

नरेंद्र मोदी अब तीसरी बार देश के पीएम बन गए हैं। रविवार को उन्होंने पूरे मंत्री परिषद के साथ शपथ ली। इस बीच दुनिया भर के देशों के राष्ट्राध्यक्ष उन्हें शुभकामना संदेश भेज रहे हैं। कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी पीएम मोदी को तीसरे कार्यकाल के लिए बधाई दी है। वहीं इसका जवाब देते हुए पीएम मोदी ने संकेतों में ही कनाडा के नेता को नसीहत भी दे डाली। पीएम मोदी ने एक्स पर सोमवार सुबह जस्टिन ट्रूडो के संदेश का जवाब देते हुए लिखा,  'बधाई संदेश के लिए जस्टिन ट्रूडो आपका धन्यवाद। कनाडा के साथ भारत आपसी समझ के साथ काम करने को उत्सुक है। हम चाहते हैं कि दोनों देश एक-दूसरे की चिंताओं को समझें।'

पीएम मोदी ने एक-दूसरे की चिंताओं को समझने वाली नसीहत दी है। इसका अर्थ खालिस्तान के मामले में कनाडा के ढीले रवैये को लेकर भारत सरकार की नाराजगी से लगाया जा रहा है। कनाडा कई बार कह चुका है कि वह अपनी जमीन पर अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा करेगा। इसके बहाने वह खालिस्तानी तत्वों पर सख्ती से इनकार कर रहा है, जबकि कट्टरपंथी संगठनों के लोग लगातार भारत के राजनयिकों तक को निशाना बना रहे हैं। भारत के दूतावास और कौंसुलेट्स को घेरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। पिछले सप्ताह ही ऑपरेशन ब्लू स्टार की 40वीं बरसी के मौके पर कनाडा में कई जगहों पर खालिस्तानी तत्वों ने इंदिरा गांधी की हत्या का चित्रण किया था।

इस दौरान खालिस्तान समर्थक और भारत विरोधी नारे भी लगाए गए थे। इस घटना पर भारत ने कड़ा ऐतराज जताया है और कनाडा से ऐक्शन की भी मांग की है। बता दें कि बीते साल जून में ही खालिस्तानी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या हो गई थी। इस हत्या को लेकर कनाडा में सुगबुगाहट थी, लेकिन सितंबर में उस वक्त हालात बिगड़ गए, जब पीएम जस्टिन ट्रूडो ने इसका आरोप भारत पर लगाया। ट्रूडो का कहना था कि निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंट्स का हाथ है। 

कनाडा ने आरोप तो लगाए, पर अब तक नहीं दे पाया सबूत

इस तरह कनाडा की धरती में भारत की ओर से हत्याएं कराना हमारी संप्रभुता के खिलाफ है। भारत ने इन आरोपों पर कहा था कि आपको सबूत देना चाहिए। यही नहीं अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों ने इस मामले में चिंता जाहिर की थी। हालांकि अब तक कनाडा की ओर से कोई सबूत नहीं दिया गया है। हालांकि उसने इस हत्या के आरोप में भारतीय मूल के 4 लोगों को अरेस्ट किया है, जो कनाडा में ही सालों से रहते हैं।