ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशसर्वदलीय बैठक में शामिल हुए केजरीवाल-स्टालिन-ममता, मोदी बोले- G-20 की अध्यक्षता क्षमता दिखाने का अवसर

सर्वदलीय बैठक में शामिल हुए केजरीवाल-स्टालिन-ममता, मोदी बोले- G-20 की अध्यक्षता क्षमता दिखाने का अवसर

मोदी ने साल भर के बड़ी संख्या में आगंतुकों के भारत आने की संभावना का उल्लेख किया। साथ ही उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने और उन स्थानों की स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने पर जोर दिया।

सर्वदलीय बैठक में शामिल हुए केजरीवाल-स्टालिन-ममता, मोदी बोले- G-20 की अध्यक्षता क्षमता दिखाने का अवसर
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीTue, 06 Dec 2022 12:02 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन को लेकर केंद्र सरकार की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय बैठक की सोमवार को अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत की जी-20 अध्यक्षता पूरी दुनिया को देश की क्षमता दिखाने का अनूठा अवसर है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत की ओर से दुनिया की 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के समूह जी-20 की अध्यक्षता संभालने पर पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत के प्रति वैश्विक जिज्ञासा और आकर्षण है, जो इस अवसर के महत्व को और बढ़ाता है। उन्होंने 'टीम वर्क' के महत्व पर जोर दिया और जी-20 के विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन में सभी नेताओं से सहयोग मांगा।

पीएम मोदी ने कहा कि जी-20 की अध्यक्षता भारत के विभिन्न हिस्सों को प्रदर्शित करने में मदद करेगी, जिससे देश के अलग-अलग क्षेत्रों की विशिष्टता सामने आएगी। मोदी ने साल भर के विभिन्न कार्यक्रमों के दौरान बड़ी संख्या में आगंतुकों के भारत आने की संभावना का उल्लेख किया। साथ ही उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने और उन स्थानों की स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने पर जोर दिया, जहां जी-20 बैठकें आयोजित की जाएंगी।

बैठक में शामिल हुए ये दिग्गज नेता
भाजपा के अध्यक्ष जे पी नड्डा, कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की ममता बनर्जी, बीजू जनता दल (बीजद) के नवीन पटनायक ने बैठक को संबोधित किया। बयान के मुताबिक, आम आदमी पार्टी (आप) के अरविंद केजरीवाल, वाईएसआर कांग्रेस के जगनमोहन रेड्डी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के सीताराम येचुरी, तेलुगू देशम पार्टी के एन चंद्रबाबू नायडू और द्रमुक के एम के स्टालिन सहित अन्य दलों के नेताओं ने भी बैठक को संबोधित किया।

विदेश मंत्रालय के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी बैठक में शिरकत की। भारत की जी-20 प्राथमिकताओं के पहलुओं को विस्तार से बताते हुए एक विस्तृत प्रस्तुति भी दी गई। पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, एस जयशंकर, पीयूष गोयल, प्रह्लाद जोशी और भूपेंद्र यादव भी बैठक में शामिल हुए।

क्या है जी-20 और कौन से देश हैं इसमें शामिल?
भारत ने 1 दिसंबर को आधिकारिक रूप से जी-20 की अध्यक्षता ग्रहण की है। इस साल दिसंबर से देश के विभिन्न स्थानों पर 200 से अधिक तैयारी बैठकों की मेजबानी किए जाने की उम्मीद है। अगले साल 9 और 10 सितंबर को नई दिल्ली में जी-20 नेताओं का शिखर सम्मेलन होना है। इससे पहले देश के विभिन्न हिस्सों में जी-20 की कई बैठकें आयोजित की जाएंगी। जी2-0 दुनिया की प्रमुख विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं का एक अंतर-सरकारी मंच है। इसमें अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ शामिल हैं।