ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशजल्द मिलेगा जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा, चुनाव की तैयारियां शुरू; पीएम मोदी का ऐलान

जल्द मिलेगा जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा, चुनाव की तैयारियां शुरू; पीएम मोदी का ऐलान

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने जम्मू-कश्मीर में हाल ही में हुए आतंकवादी हमलों का भी जिक्र किया और कहा कि शांति के दुश्मनों को सबक सिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

जल्द मिलेगा जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा, चुनाव की तैयारियां शुरू; पीएम मोदी का ऐलान
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,श्रीनगरThu, 20 Jun 2024 10:52 PM
ऐप पर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को श्रीनगर में कहा कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं और जल्द ही केंद्र शासित प्रदेश को राज्य का दर्जा वापस दे दिया जाएगा। श्रीनगर की अपनी दो दिवसीय यात्रा के पहले दिन शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर (एसकेआईसीसी) में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं। इस दौरान पीएम मोदी ने जम्मू-कश्मीर में हाल ही में हुए आतंकवादी हमलों का भी जिक्र किया और कहा कि “शांति के दुश्मनों को सबक सिखाने” में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा, "विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। वह दिन दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर के लोग अपनी सरकार चुनने के लिए मतदान करेंगे।" उन्होंने कहा, "वह दिन भी जल्द ही आएगा जब एक राज्य के रूप में जम्मू-कश्मीर अपने लिए बेहतर भविष्य बनाएगा।" प्रधानमंत्री गुरुवार शाम को श्रीनगर पहुंचे और एसकेआईसीसी गए, जहां उन्होंने विभिन्न स्टार्ट-अप द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी स्टॉल का निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने बुनियादी ढांचे, शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्रों में 1,500 करोड़ रुपये की 84 परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। उन्होंने विभिन्न सरकारी विभागों में रोजगार पाने वाले 2,000 लोगों को नियुक्ति पत्र भी जारी किए। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह हाल ही में हुए संसदीय चुनावों में लोकतंत्र का झंडा बुलंद करने के लिए "लोगों का व्यक्तिगत रूप से धन्यवाद" करने के लिए कश्मीर आए हैं।

उन्होंने कहा, "आज सुबह जब मैं श्रीनगर आने की तैयारी कर रहा था, तो मैं बहुत उत्साहित था। जब मैंने सोचा कि मैं इतना उत्साहित क्यों हूं, तो मेरे दिमाग में दो कारण आए - एक तीसरा कारण भी है, जो यह है कि मैंने यहां लंबे समय तक काम किया है और बहुत से लोगों से मेरा परिचय हुआ है। एक कारण जम्मू-कश्मीर की विकास परियोजनाएं थीं और दूसरा यह कि संसदीय चुनावों के बाद यह मेरी आपसे पहली बातचीत थी। आपने लोकतंत्र को जीत दिलाई। आपने पिछले 35-40 सालों के सभी (मतदान के) रिकॉर्ड तोड़ दिए। यह दर्शाता है कि यहां के युवाओं का लोकतंत्र में गहरा विश्वास है। मैं लोगों को धन्यवाद देने के लिए कश्मीर घाटी आना चाहता था। आपने लोकतंत्र का झंडा बुलंद रखा है और मैं आपका धन्यवाद करने आया हूं।"

पीएम मोदी ने कहा, "अटल जी (पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी) ने हमें 'इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत' का विजन दिया था और हम इसे हकीकत में बदल रहे हैं।" उन्होंने कहा, "हम सभी दूरियों को मिटाने की कोशिश करेंगे, चाहे वह दिल से दूरी हो या दिल्ली से।" उन्होंने कहा, "हाल ही में कुछ आतंकी गतिविधियां हुई हैं और हमने उन्हें गंभीरता से लिया है। गृह मंत्री ने समीक्षा बैठक की। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि हम शांति के दुश्मनों को सबक सिखाएंगे। मैं वादा करता हूं कि जम्मू-कश्मीर में नई पीढ़ी शांति से रहेगी - आपने जो रास्ता चुना है, हम उसे और मजबूत करेंगे।"

उन्होंने कहा, ‘‘अब भारत स्थिर सरकार के नए दौर में प्रवेश कर चुका है। इससे हमारा लोकतंत्र और मजबूत हुआ है और इस लोकतंत्र की मजबूती में जम्मू एवं कश्मीर की आवाम की, आपलोगों की बहुत बड़ी भूमिका रही है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आज सही मायने में भारत का संविधान लागू हुआ है और ये सब कुछ हो रहा है, क्योंकि सबको बांटने वाली अनुच्छेद 370 की दीवार अब गिर चुकी है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं देश के लिए दिन-रात जो भी कर रहा हूं, नेक नीयत से कर रहा हूं। मैं बहुत ईमानदारी से, समर्पण भाव से जुटा हूं ताकि कश्मीर की जो पिछली पीढ़ियों ने भुगता है, उसे बाहर निकालने का रास्ता बनाया जा सके।’’

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1,500 करोड़ रुपये की 84 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। जिन परियोजनाओं का उन्होंने उद्घाटन किया उनमें सड़क अवसंरचना, जलापूर्ति योजनाएं और उच्च शिक्षा में अवसंरचना आदि से संबंधित परियोजनाएं शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, प्रधानमंत्री ने चेनानी-पटनीटॉप-नाशरी खंड के सुधार, औद्योगिक संपदाओं के विकास और छह सरकारी डिग्री कॉलेजों के निर्माण जैसी परियोजनाओं की आधारशिला रखी।