ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशईद के दिन मेरे घर नहीं बनता था खाना, सारे मुस्लिम... पीएम मोदी ने खोला कौन सा राज?

ईद के दिन मेरे घर नहीं बनता था खाना, सारे मुस्लिम... पीएम मोदी ने खोला कौन सा राज?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मेरे घर के अगल-बगल सारे मुस्लिम परिवार रहते हैं। मेरे घर में ईद समेत तमाम त्योहार होते थे। ईद के दिन मेरे घर में खुद का खाना नहीं पकता था।

ईद के दिन मेरे घर नहीं बनता था खाना, सारे मुस्लिम... पीएम मोदी ने खोला कौन सा राज?
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 16 May 2024 05:40 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बचपन के दिनों को याद करते हुए कुछ राज खोले हैं। उन्होंने बताया है कि ईद के दिन उनके घर पर खाना नहीं बनता था और आसपास रहने वाले मुस्लिम परिवारवालों के घरों से खाना आता था।  'नेटवर्क 18' से बात करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ''मेरे घर के अगल-बगल सारे मुस्लिम परिवार रहते हैं। मेरे घर में ईद समेत तमाम त्योहार होते थे। ईद के दिन मेरे घर में खुद का खाना नहीं पकता था, सारे मुस्लिम परिवारों से खाना आ जाता था। जब मुहर्रम निकलता था, तब ताजिया के नीचे से निकलते थे।'' 

पिछले दिनों रैली में घुसपैठिया बोलने पर पीएम मोदी ने जवाब दिया कि किसने कहा जब ज्यादा बच्चों की बात होती है तो मुस्लिमों का नाम जोड़ देते हैं। मुस्लिमों के साथ क्यों अन्याय करते हैं। हमारे यहां गरीब परिवारों में भी यही हाल है। किसी भी समाज के हो, गरीबी जहां है, वहां ज्यादा बच्चे होते हैं। मैंने न हिंदू कहा और न ही मुस्लिम कहा। क्या पीएम मोदी को मुस्लिम वोटों की चाहत है? इस पर उन्होंने कहा कि मैं मानता हूं कि मेरे देश के लोग मुझे वोट देंगे। जिस दिन मैं हिंदू-मुस्लिम करूंगा, उस दिन सार्वजनिक जीवन में रहने योग्य नहीं रहूंगा। मैं हिंदू-मुसलमान नहीं करूंगा, ये मेरा संकल्प है।

वहीं, बुधवार को महाराष्ट्र के पिंपलगांव बसवंत में चुनावी रैली में को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आपकी सेवा करना ही मेरे जीवन का सबसे बड़ा उद्देश्य है। कांग्रेस इतनी बुरी तरह हारने जा रही है कि उसके लिए (लोकसभा में) विपक्ष का दर्जा पाना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मैं तीसरे कार्यकाल के लिए आपका आशीर्वाद मांगने आया हूं। कांग्रेस मंदिर पर कुछ भी बोल रही है लेकिन 'डुप्लिकेट' शिवसेना चुप है; उनकी पाप में भागीदारी है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि कांग्रेस की सोच है कि देश के बजट का 15 फीसदी अल्पसंख्यकों पर खर्च किया जाए। धार्मिक आधार पर बजट का बंटवारा खतरनाक है। कांग्रेस के लिए अल्पसंख्यक का मतलब उसका प्रिय वोट बैंक है। डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर धर्म-आधारित आरक्षण के खिलाफ थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें