DA Image
21 अक्तूबर, 2020|5:16|IST

अगली स्टोरी

PM Modi Birthday: चाय बेचने से लेकर मगरमच्छ के बच्चे को पकड़ने तक, जानें PM मोदी के बचपन से जुड़ी ये कहानियां

पीएम नरेंद्र मोदी का 17 सितंबर को 69वां जन्मदिन है। पीएम मोदी का बचपन कैसा था? वो बचपन में बाकी बच्चों के जैसे ही थे या फिर शुरू से ही उनके अंदर कुछ अलग था? आइए बताते हैं पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में और उनके बचपन से जुड़े कुछ किस्सों के बारे में।

चाय बेची

17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर में पीएम नरेंद्र मोदी का जन्म हुआ था। पांच भाई-बहनों में नरेंद्र मोदी का नंबर तीसरा है। वडनगर रेलवे स्टेशन पर नरेंद्र मोदी के पिता चाय बेचने का काम करते थे। वह स्कूल के बाद सीधा पिता की दुकान पर पहुंच जाते और ग्राहकों को चाय देते। वे रेल के डिब्बों में घूम कर भी चाय बेचते थे।

ये भी पढ़ें:'Howdy Modi' कार्यक्रम में ट्रंप के शिरकत से पीएम मोदी खुश, ट्वीट कर कही यह बड़ी बात

दयालु थे मोदी

'कॉमनमैन नरेंद्र मोदी' में किशोर मकवाना लिखते हैं कि स्कूली दिनों में नरेंद्र एनसीसी कैंप में गए जहां से बाहर निकलना मना था। स्कूल के शिक्षक गोवर्धनभाई पटेल ने देखा कि मोदी एक खंबे पर चढ़े हुए हैं तो उन्हें गुस्सा आ गया। लेकिन जब उनकी नज़र इस बात पर पड़ी कि एक फंसे हुए पक्षी को निकालने के लिए नरेंद्र मोदी खंबे पर चढ़े हैं तो उनका गुस्सा खत्म हो गया।

जूतों की कहानी

पीएम मोदी के घर की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं थी कि वे जूते खरीद सकें। उनके मामा ने उन्हें सफेद कैनवस जूते खरीद कर दिए। अब जूते गंदे होने तय थे लेकिन नरेंद्र मोदी के पास पॉलिश खरीदने के लिए भी पैसे नहीं थे। उन्होंने एक तरीका निकाला, टीचर जो चॉक के टुकड़े फेंक देते थे उन्हें वो जमा कर लेते थे और उनका पाउडर बनाकर भिगोकर अपने जूतों पर लगा लिया करते थे। सूखने के बाद जूते नए जैसे ही लगते थे।

ये भी पढ़ें: सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ जंग, PM मोदी ने 700 गांवों के सरपंचों को लिखा पत्र

मगरमच्छ के बच्चे को पकड़ा

नरेंद्र मोदी अपने बचपन के दोस्त के साथ शर्मिष्ठा सरोवर गए थे जहां से वह एक मगरमच्छ के बच्चे को पकड़ लाए। उनका मां हीरा बा ने उनसे कहा कि इसे वापस छोड़कर आओ। बच्चे को कोई यदि मां से अलग कर दे तो दोनों को ही परेशानी होती है। मां की ये बात नरेंद्र मोदी को समझ आ गई और वो उस मगरमच्छ के बच्चे को वापस सरोवर में छोड़ आए।

शरारती भी थे मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने बताया था कि वो शहनाई बजाने वालों को इमली दिखाया करते थे ताकि शहनाई बजाने वालों के मुंह में पानी आ जाए और वो शाहनाई ना बजा पाएं। इस पर शहनाईवादक नाराज होकर मोदी के पीछे भी भागते थे। पीएम मोदी ने कहा कि उनका मानना है कि शरारतों से ही बच्चे का विकास होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:pm modi birthday know about stories related to narendra modi