parties of Ayodha land dispute case security increased - इस वजह से अयोध्या मामले से जुड़े पक्षकारों की सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा DA Image
12 दिसंबर, 2019|6:21|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस वजह से अयोध्या मामले से जुड़े पक्षकारों की सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा

security tightened for ayodhya case related parties  file pic

यूपी सरकार ने सोमवार को 59 प्रमुख लोगों की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की। इसके बाद अयोध्या मामले से जुड़े रहे कई धर्माचार्यों और पक्षकारों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इनमें उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के प्रमुख जुफर फारूकी और कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा भी शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ने सोमवार रात गहन समीक्षा के बाद वसीम रिजवी और जुफर फारूकी को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई है,उन्हें पहले सामान्य श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी। अयोध्या पर फैसला आने से पहले भी इनकी सुरक्षआ की समीक्षा की गईथी। कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा को पहले वाई श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त थी। खुफिया इनपुट के आधार पर उनकी सुरक्षा जेड प्लस कर दी गईहै। वहीं, मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ‘नंदी' की सुरक्षा जेड श्रेणी की कर दी गई है।

संगीत सोम की सुरक्षा बढ़ी:

भाजपा विधायक संगीत सोम को भी वाई श्रेणी से बढ़ाकर जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई है। पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय व नरेश अग्रवाल को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई है।

इनकी सुरक्षा बरकरार :

अयोध्या विवाद में बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी और रामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य एवं पूर्व सांसद डॉ. राम विलास दास वेदांती की सुरक्षा बरकरार रखी गई है। वहीं, सूत्रों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट से अयोध्या विवाद पर मध्यस्थता के लिए नियुक्त कमेटी के तीन सदस्यों श्रीश्री रविशंकर, कलीफुल्लाह और श्रीराम पंचू को दी गई सुरक्षा अब हटा ली गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:parties of Ayodha land dispute case security increased