DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परीक्षा पर चर्चा: कुछ देर बाद तनाव से निपटने के गुर सिखाएंगे पीएम मोदी

PM Modi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश भर के छात्रों को परीक्षा के तनाव से मुक्ति का गुर सिखाने के लिए उनसे शुक्रवार को सीधा संवाद करेंगे। यह कार्यक्रम दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में सुबह 12 बजे आयोजित किया जा रहा है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए होने वाली इस चर्चा में देश भर के लाखों छात्र-छात्राएं शामिल होंगे। इस संवाद में पीएम मोदी कक्षा 9 से कॉलेज के द्वितीय वर्ष के छात्रों को संबोधित कर उन्हें परीक्षा की तैयारियों के गुर सीखाएंगे ताकि छात्रों को तनाव से मुक्ति मिले।

इस कार्यक्रम को 'परीक्षा-एक उत्सव' नाम दिया गया है। प्रधानमंत्री का मानना है कि परीक्षा एक उत्सव की तरह है जिसे पूरे उमंग और उल्लास के साथ मनाया जाना चाहिए।

इस कार्यक्रम का सभी स्कूलों में प्रसारण सुनिश्चत करने के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने तमाम स्कूलों को कार्यक्रम के सीधे प्रसारण की व्यवस्था करने और छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चत करने का आदेश जारी किया है। सीबीएसई ने स्कूलों को एक प्रपत्र भी भेजा है, जिसे भरकर तस्वीरों और वीडियो के साथ उसे सीबीएसई के पास भेजना होगा। इस कार्यक्रम में करीब 10 छात्र-छात्राओं को जहां प्रधानमंत्री से सीधे सवाल पूछने का मौका मिलेगा, वहीं प्रधानमंत्री माईगॉव डॉट इन से चुने गए कुछ सवालों के जवाब भी देंगे। 

एक घंटे का होगा कार्यक्रम
मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि देश भर में करीब 29 करोड़ छात्र हर साल विभिन्न तरह की परीक्षाएं देते हैं जिनमें तीन करोड़ कॉलेज के छात्र भी शामिल हैं। इन परीक्षाओं में एक करोड़ शिक्षक भी अपनी सेवाएं देते हैं। उन्होंने कहा कि देश में बीस करोड़ परिवारों में कोई न कोई परीक्षा देता ही है और घर-घर में परीक्षा एक विषय होता है। उन्होंने कहा कि यह राजनीतिक पार्टी का विषय नहीं बल्कि जनता का विषय है और इसमें स्कूल कॉलेज सभी शामिल रहेंगे और प्रधानमंत्री के छात्रों के साथ संवाद का सीधा प्रसारण हर माध्यमों से होगा। जावड़ेकर ने कहा कि यह पूरा कार्यक्रम एक घंटे का होगा। 

पीएम की किताब ‘एग्जाम वारियर’ कुछ दिनों पहले हुई रिलीज
प्रधानमंत्री ने कुछ दिन पहले ही छात्रों के लिए ‘एग्जाम वारियर’ नामक पुस्तक लिखी ही है जिसमे उन्होंने परीक्षा के लिए 25 मंत्र बताएं है जिस से छात्रों का हौसला बढ़ेगा। 

किताब में पीएम मोदी ने संदेश दिया है कि परीक्षा कोई हौव्वा नहीं है। इससे डरने की कोई जरूरत नहीं होती है। इससे डरने की बजाए किसी त्योहार की तरह इसका जश्न मनाना चाहिए। 193 पन्नों की इस पुस्तक में परीक्षा की तैयारी कर रहे परीक्षार्थियों के लिए 25 अध्यायों में 25 नुस्खे दिए गए हैं। साथ ही प्रधानमंत्री ने इस पुस्तक में माता-पिता और शिक्षकों के लिए एक पत्र भी लिखा है। वहीं, पुस्तक के अंत में परीक्षार्थियों के लिए योगासन भी बताए गए हैं।

पुस्तक के पहले अध्याय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा है कि परीक्षा का सबसे नजदीकी समकक्ष त्योहार है। प्रधानमंत्री आगे लिखते हैं कि त्योहारों का पहले से इंतजार किया जाता है। ये साल के बहुप्रतीक्षित कार्यक्रम होते हैं। मुझे यकीन है कि आप सभी को होली, दिवाली, ईद, क्रिसमस और गुरु पर्व का बेसब्री से इंतजार रहता होगा। क्या इसी तरह आप परीक्षा की भी महीनों पहले से ही चर्चा नहीं करते और उसकी तैयारी में जुट जाते हैं? त्योहार हमारे भीतर के सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालते हैं। इसी तरह परीक्षा भी हमारे सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालने के लिए होती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pariksha Par Charcha By Prime Minister Narendra Modi All You Need To Know