parents got married on Daughter marriage Know the whole matter - बेटी ब्याहने पहुंचे माता पिता से लगवा दिए फेरे, जानें पूरा मामला DA Image
6 दिसंबर, 2019|11:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटी ब्याहने पहुंचे माता पिता से लगवा दिए फेरे, जानें पूरा मामला

 parents got married on daughter marriage

अब इसे शासन से मिल रहे अनुदान का लालच कहें या फिर जिंदगी को जिंदादिली से जीने की ललक। बेटे-बेटियों के हाथ पीले करने की उम्र में कई अधेड़ जोड़े भी दाम्पत्य की डोर में बंध गए। गुरुवार को एनआरआईपीटी में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह के दौरान कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला। कई ऐसे लोग परिणय सूत्र में बंधते दिखे जिन्हें देखकर पहले तो लगा कि वे कन्यादान के लिए आए हैं लेकिन बाद में मालूम चला कि वे खुद शादी करने आए हैं।

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में कंचनपुर, शंकरगढ़ के 50 वर्षीय अतरनाथ और लक्ष्मी इस सामूहिक शादी समारोह में एक दूजे के हो गए। अतरनाथ का बड़ा लड़का बृजेश 22 वर्ष का है। वह मजदूरी करके पिता के साथ मिलकर परिवार का भरण भोषण करता है। बमरौली के 48 वर्षीय मुन्ना और विमला ने शादी रचाई। जब उनसे पूछा गया कि आपकी उम्र कितनी है? वह बोले, मां-बाप को मालूम होगा। हम अपनी उम्र नहीं जानते। वहीं, कौशाम्बी के पांच वर्षीय विमल के पापा राकेश और सविता ने शादी रचाई। 

एनआरआईपीटी मैदान को 10 सेक्टरों और 20 ब्लॉकों को बांटा गया था। एक घंटे के मंत्रोच्चार के बाद विवाह समारोह संपन्न हो गया। इसके बाद बगल में लाल बैग में कपड़े, गृहस्थी के लिए जुटाए बर्तन, एक पर्स व शृंगार का सामान था। हाथों में बैग थामे जोड़े पंडाल से गेट की ओर बढ़ चले। यह कुछ जोड़े केवल एक नजीर पेश करते हैं कि आखिर कैसे शादियां कराई गईं। हालांकि इस बारे में समाज कल्याण अधिकारी प्रवीण कुमार सिंह का कहना है कि शासनादेश के अनुसार विधवा व परित्यक्तता का भी विवाह हो सकता है। उनका कहना है कि ऐसे संदिग्ध जोड़ों की रिपोर्ट देखी गई, सभी सही पाए गए।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:parents got married on Daughter marriage Know the whole matter