DA Image
8 मई, 2021|6:20|IST

अगली स्टोरी

भारत में दहशत का सामान भेजने को चीन से बड़े ड्रोन खरीद रहे हैं पाकिस्तानी आतंकी

chinese stealth drone    us department of defense james l  harper jr  a us air force rq-1 predator u

पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी संगठन और इसके इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस ने जम्मू-कश्मीर और पंजाब के रास्ते भारत में दहशत का सामान भेजने के लिए बड़े ड्रोन्स का इस्तेमाल शुरू किया है। काउंटर टेटर ऑपरेशंस से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि आतंकी समूह और ISI की ओर से ड्रग्स और हथियारों की तस्करी के लिए कुछ साल तक छोटे ड्रोन्स के इस्तेमाल के बाद इन्होंने अपग्रेडेड ड्रोन्स की खरीद की है, जो अधिक मात्रा में हथियार और विस्फोटक सीमा पार करा सकते हैं।

एक अधिकारी ने कहा कि अधिक क्षमता वाले ये ड्रोन इसलिए अहम हैं क्योंकि लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) बर्फ से ढंके हुए हैं और जिहादी घुसपैठियों के लिए सीमा पार करना मुश्किल हो गया है। कई इंटेलिजेंस रिपोर्ट में यह बात कही गई है कि पाकिस्तानी डीप स्टेट जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ाने के लिए पंजाब में ड्रोन से हथियार पहुंचाने में जुटा है।

ताजा रिपोर्ट से यह भी संकेत मिला है कि पाकिस्तान में मौजूद खालिस्तानी समूहों को उनके हैंडलर्ड पंजाब में हो रहे किसान आंदोलन का फायदा उठाकर राज्य में दहशतगर्दी को दोबारा जिंदा करने के लिए जोर डाल रहे हैं। इस संदेह को लेकर कई बार राज्य पुलिस ने केंद्र और आतंरिक सुरक्षा एजेंसियों तक पहुंचाया है।  

केवल पंजाब में ही 12 अगस्त 2019 से अब तक चार चाइनीज ड्रोन बरामद किए जा चुके हैं। हथियारों को पहुंचाने के लिए इस्तेमाल हो रहे चाइनीज कॉमर्शल ड्रोन्स समस्या का केवल एक हिस्सा हैं। इंटेलिजेंस एजियों ने सुरक्षाबलों को अलर्ट किया है कि हथियार पहुंचाने के लिए इस्तेमाल हो रहे ड्रोन्स से सीमा के नजदीक लक्ष्यों पर बम से हमला भी किया जा सकता है। 

आईएसआई की ओर से आतंकवादी समूहों के लिए ड्रोन से हमले के विकल्प पर विचार किया जा रहा है। आईएसआई ने लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के बड़े नेताओं के साथ अप्रैल में हुई बैठक में यह प्लान सामने रखा था। इंटेलिजेंस रिपोर्ट के मुताबिक, इसके अगले महीने पीओके के कोटली स्थित ब्रिगेड हेडक्वॉर्टर में भी चर्चा की गई थी। 

अधिकारियों ने कहा एक तरफ जहां भारत एंटी-ड्रोन क्षमता विकसित करने में जुटा है और अगले दो महीने पंजाब और जम्मू-कश्मीर में धुंध वाले मौसम में भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के लिए चुनौती अधिक होगी। बॉर्डर सिक्यॉरिटी फोर्स के डायरेक्टर जनरल राकेश अस्थाना ने मंगलवार को राइजिंग डे इवेंट में इस चुनौती की चर्चा की। उन्होंने बताया कि बीएसएफ ने इस साल 20 जून को जम्मू के कठुआ में एक बड़े ड्रोन का पता लगाया जो बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक लेकर आया था। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pakistan backed terrorist groups using bigger drones to smuggle arms and ammunition in Jammu and Kashmir