ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशतनाव के बाद भी भारत के इस इवेंट में रहेगा कनाडा, पर जी-20 के ये दो देश रहेंगे गैरहाजिर

तनाव के बाद भी भारत के इस इवेंट में रहेगा कनाडा, पर जी-20 के ये दो देश रहेंगे गैरहाजिर

भारत से जारी तनाव के बीच कनाडा ने एक अहम फैसला लिया है। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के मुताबिक कनाडा भारत में होने जा रहे जी20 पार्लियामेंट्री स्पीकर्स समिट (पी20) में रहेगा। आयोजन 12 से 14 के बीच होगा।

तनाव के बाद भी भारत के इस इवेंट में रहेगा कनाडा, पर जी-20 के ये दो देश रहेंगे गैरहाजिर
Deepakहिंदुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीFri, 06 Oct 2023 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत से जारी तनाव के बीच कनाडा ने एक अहम फैसला लिया है। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के मुताबिक कनाडा भारत में होने जा रहे जी20 पार्लियामेंट्री स्पीकर्स समिट (पी20) में शामिल होगा। यह आयोजन 12 से 14 अक्टूबर के बीच दिल्ली में होने वाला है। कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत का हाथ होने की आशंका जाहिर की थी। इसके बाद से ही ओटावा और नई दिल्ली के बीच संबंध सामान्य नहीं रह गए हैं। लोकसभा सचिवालय से मिली जानकारी के मुताबिक जर्मनी और अर्जेंटीना ने आंतरिक वजहों का हवाला देकर इस कार्यक्रम में शामिल होने से इंकार कर दिया है।

इतने लोग होंगे शामिल
मीडिया को संबोधित करते हुए ओम बिरला ने बताया कि सभी देशों को आमंत्रण भेजा गया था। कनाडा के सीनेट स्पीकर ने कार्यक्रम में शामिल होने को सहमति दी है। इस कार्यक्रम में 50 संसद सदस्य, 14 जनरल सेक्रेट्री, 26 राष्ट्रपति और 10 उपराष्ट्रपति शामिल होंगे। पैन अफ्रीकन पार्लियामेंट के प्रेसीडेंट पहली बार पी20 इवेंट में शामिल होंगे। बिरला ने कहा कि पी20 बैठक का मुख्य बातचीत ‘लोकतंत्र की जननी के रूप में भारत’ होगी। पी20 जी-20 देशों के अध्यक्षों और संसदों के अध्यक्षों का एक मंच है जो संसदीय नेताओं को वैश्विक महत्व के मुद्दों पर चर्चा करने और बेहतरीन प्रथाओं को साझा करने के लिए एक मंच मुहैया कराता है।

ऐसा है कार्यक्रम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 अक्टूबर को दो दिवसीय कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। इसमें चार सत्र होंगे, जहां प्रतिभागी सार्वजनिक डिजिटल प्लेटफार्मों के माध्यम से लोगों के जीवन में परिवर्तन, महिलाओं के नेतृत्व वाले विकास, सतत विकास लक्ष्यों में तेजी लाने और सतत ऊर्जा संक्रमण सहित मुद्दों पर चर्चा करेंगे। लोकसभा सचिवालय ने कहा कि 12 अक्टूबर को एक शिखर सम्मेलन से पहले का कार्यक्रम, 'पार्लियामेंट्री फोरम ऑन एलआईएफई' (लाइफस्टाइल फॉर एनवायरनमेंट) होगा। इसमें भारत की प्राचीन और सहभागी लोकतांत्रिक परंपराओं को जाहिर करने के लिए एक प्रदर्शनी भी लगेगी। अगले दिन नए संसद भवन को देखने की योजना भी बनाई गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें