DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिदंबरम पर गिरफ्तारी की तलवार, आज सुप्रीम कोर्ट में लगाएंगे सुनवाई की अर्जी

p chidambaram photo livemint

आईएनएक्स मीडिया मामले में आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिंदबरम पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को उन्हें   अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया। इसके तुरंत बाद सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम उनके घर पहुंच गई। हालांकि उस वक्त चिदंबरम अपने घर पर मौजूद नहीं थे और एजेंसियों को लौटना पड़ा।

चिदंबरम गिरफ्तारी से राहत के लिए सुप्रीम कोर्ट भी पहुंचे लेकिन इसी बीच सीबीआई और ईडी की टीमें उनके घर पहुंच गईं। सबसे पहले  सीबीआई के छह अफसरों की टीम उनके जोरबाग स्थित आवास पहुंची। सूत्रों के मुताबिक अफसरों ने घर की तलाशी ली लेकिन पूर्व वित्त मंत्री वहां नहीं मिले। सीबीआई अफसरों ने वहां मौजूद लोगों से जानकारी ली और लौट गए।

सीबीआई अफसरों के जाते ही दो गाड़ियों में सवार प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी भी पहुंच गए। हालांकि उन्हें भी चिदंबरम नहीं मिले और अफसरों को लौटना पड़ा। इससे पहले दिल्ली उच्च न्यायालय ने  उनकी अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी थी। जस्टिस सुनील गौड़ ने  कहा कि यह धनशोधन का अनूठा मामला है और इस तरह के मामले में जमानत देने से समाज में गलत संदेश जाएगा।

कब क्या हुआ
3:20 बजे दिल्ली उच्च न्यायालय ने जमानत अर्जी रद्द की
6:50 बजे शाम सीबीआई टीम चिदंबरम के घर पहुंच गई
7:10 बजे सीबीआई अधिकारी उनके घर से रवाना हुए
7:30 बजे शाम प्रवर्तन निदेशालय के अफसर उनके घर पहुंचे
9:15 बजे रात ईडी के अफसर चिदंबरम के घर से लौटे

 

सुप्रीम कोर्ट पहुंचे
कांग्रेस नेता पी चिदंबरम से मंगलवार को कहा गया कि वह दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ तत्काल सुनवाई के लिए अपनी अपील का उल्लेख बुधवार को उच्चतम न्यायालय में करें। उच्च न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया घोटाले से संबंधित भ्रष्टाचार और धनशोधन मामलों में उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई अयोध्या मामले की सुनवाई के लिए संविधान पीठ में बैठे होंगे, इसलिए सुबह 10:30 बजे याचिका का उल्लेख उस वरिष्ठतम न्यायाधीश के समक्ष किया जाएगा जो संविधान पीठ में नहीं हैं।

उच्च न्यायालय द्वारा अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दिए जाने के बाद चिदंबरम और उनके वकीलों के समूह ने मशविरा किया। उच्च न्यायालय के आदेश के बाद कपिल सिब्बल, अभिषेक मनु सिंघवी और सलमान खुर्शीद जैसे वरिष्ठ अधिवक्ता शीर्ष अदालत पहुंचे। उच्च न्यायालय में इस मामले पर बहस कर रहे वरिष्ठ वकील डी कृष्णन भी बाद में चर्चा में शामिल हुए। सिब्बल ने कहा कि टीम को अभी अदालत के आदेश की प्रति नहीं मिली है।

उच्चतम न्यायालय के एक अधिकारी ने सिब्बल को चिदंबरम की याचिका रजिस्ट्रार (न्यायिक) के समक्ष रखने को कहा जो इसे प्रधान न्यायाधीश के समक्ष रखने के बारे में फैसला करेंगे। सिब्बल ने रजिस्ट्रार (न्यायिक) सूर्य प्रताप सिंह से मुलाकात की और उन्हें स्थिति बताई। उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए चिदंबरम को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत देने से उच्च न्यायालय के इंकार के कुछ मिनट बाद यह घटनाक्रम हुआ।

 

क्या था मामला
सीबीआई का आरोप है कि यूपीए-1 के दौरान चिदंबरम ने 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए मीडिया समूह को दी एक एफआईपीबी को मंजूरी दी। इसमें अनियमितताएं हुईं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:P Chidambaram Arrest Anytime After High Court Reject Bail Plea in INX Media